Advertisment

Business Idea: कम खर्च में शुरू करे यह बिज़नेस,हर महीने होगी लाखों में कमाई

author-image
By Pradesh Tak
New Update
Know the difference between PPF and EPF.jpg
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

मुर्गीपालन तो आम है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि बत्तख पालन मुर्गीपालन से भी ज्यादा मुनाफे वाला बिजनेस हो सकता है? जी हां, बत्तख के अंडे और मांस की कीमत मुर्गी से ज्यादा होती है, जिससे किसानों को अच्छी आमदनी होती है. पोल्ट्री फार्मिंग में मुर्गीपालन के बाद बत्तख पालन का बिजनेस सबसे ज्यादा लोकप्रिय है. इस क्षेत्र के जानकार भी मानते हैं कि मुर्गीपालन के मुकाबले बत्तख पालन ज्यादा फायदेमंद है. अगर आप भी बत्तख पालन करके अच्छी कमाई करना चाहते हैं, तो ये 10 फायदे जरूर जान लें.

बत्तख पालन के 10 फायदे:

  1. कम खर्च में ज्यादा मुनाफा: बत्तखें बाहर घूमकर खेतों, बगीचों, अनाज, पत्तियां और कीड़े-मकोड़े खा लेती हैं, जिससे उनके खाने पर कम खर्च करना पड़ता है. इससे बत्तख पालन सस्ता हो जाता है.

  2. कम जगह में भी आसान: मुर्गियों के रहने के लिए जितनी जगह चाहिए, उतनी ही जगह में आप बत्तखों को भी पाल सकते हैं, बल्कि कई बार ऐसी जगहों पर भी बत्तख पालना आसान होता है जहां मुर्गियों को पालना मुश्किल होता है.

  3. तेज और कम देखभाल: माना जाता है कि बत्तखें मुर्गियों से ज्यादा समझदार होती हैं. साथ ही कम देखभाल में भी बत्तखों को आसानी से पाला जा सकता है.

  4. सुबह जल्दी मिलते हैं अंडे: मुर्गियों के उलट, बत्तखें सूर्योदय से पहले यानी सुबह 9 बजे से पहले अंडे देती हैं. इससे बत्तख पालने वाले को पूरे दिन अंडे इकट्ठा करने की झंझट से मुक्ति मिल जाती है.

  5. मछली पालन के साथ फायदा: तालाब में मछली पालन के साथ-साथ बत्तख पालन भी आसानी से किया जा सकता है. क्योंकि तालाब में मौजूद छोटी मछलियां बत्तखों के खाने के काम आती हैं.

  6. तालाब की सफाई में मददगार: बत्तखें तालाब में पनपने वाले बेकार पौधों को खाने में मदद करती हैं, जिससे तालाब साफ रहता है.

  7. अधिक अंडे और लंबा समय: बत्तख 2-3 साल तक लगातार अच्छी संख्या में अंडे देती हैं.

  8. साधारण घरों में भी रह सकती हैं: बत्तखों को आप किसी खास फार्म के बजाए साधारण घरों में भी आसानी से रख सकते हैं.

  9. बीमारियों से कम खतरा: बत्तखों में kuş gribi (bird flu) जैसी बीमारियों से लड़ने की क्षमता होती है. साथ ही कम बीमार पड़ने के कारण दवाइयों पर भी कम खर्च होता है.

Advertisment
Latest Stories