Wednesday, November 29, 2023
Homeमुख्य खबरेंएक घंटे से भी कम समय में पहुचायेगी दिल्ली से मेरठ, आइए...

एक घंटे से भी कम समय में पहुचायेगी दिल्ली से मेरठ, आइए जाने रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम से जुड़ी कुछ खास बातें!

इंडियन ट्रांसपोर्ट सिस्टम के लिए 20 अक्टूबर एक ऐतिहासिक दिन रहेगा। भारत में पहली बार 17 किलोमीटर लंबे ट्रैक पर रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम यानी RRTS की शुरूआत कर दी गयी है। इस मौके़ पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्रैन को हरी झंडीदिखते हुए उट्घाटन किया और भारतवासियों को शुभकामनाएं दीं। रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम यानी RRTS से जुड़ी ट्रेनों को ‘नमो भारत’ का नाम दिया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले रीजनल रैपिड ट्रेन का उट्घाटन करते हुए ‘नमो भारत’ में सफ़र भी किया है। यह पूरे देशवासियों के लिए गौरव का पल है। ऐसा इसलिए भी कह सकते हैं कि आने वाले समय में रैपिड रेल सेवा से क्षेत्रीय कनेक्टिविटी का रूप पूरी तरह से बदल जायेगा। दो शहरों को जोड़ने में इसकी बेहद ही महत्वपूर्ण भूमिका होगी।

RRTS दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ की नीव चार साल पहले 8 मार्च 2019 को रखी गई

प्रधानमंत्री मोदी ने देश के पहले RRTS दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ की नीव चार साल पहले 8 मार्च 2019 को रखी थी। बता दें कि,दिल्ली से मोदीपुरम के बीच की दूरी 82 किलोमीटर है जिसे ये ट्रेन लगभग 1 घंटे से भी कम समय में कवर कर लेगी। कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक ट्रेन 40-45 मिनट में डेस्टिनेशन पर पहुंच जाएगी। इस प्रोजेक्ट के तहत साहिबाबाद से दुहाई डिपो को जोड़ने वाली सेवा की शुरूआत हुई है। पीएम मोदी ने भरोसा जताया है कि अगले डेढ़ साल में RRTS के मेरठ खंड का काम पूरा हो जायेगा। खुशी की बात है कि पहले नमो भारत ट्रेन में सहायक स्टाफ और लोकोमोटिव पायलट सभी महिलाएं हैं। इससे देश के परिवहन व्यवस्था में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने की गई है। नमो भारत ट्रेन की वजह से भविष्य में जो सबसे ज़्यादा फ़ाइदा सड़कों पर वाहनों की भीड़ को कम करने में भी मदद मिलेगी।

यह भी पढ़े: 186 विधायक हैं करोड़पति, ADR रिपोर्ट में बड़ा खुलासा, आइए जानते है क्या है पूरी रिपोर्ट!

रियल एस्टेट यानी जमीन की कीमतों में जोरदार इजाफा देखा जा रहा

खास बात ये है कि इस ट्रेन के आने की घोषणा के बाद से गाजियाबाद और इससे जुड़े स्थानों के रियल एस्टेट यानी जमीन की कीमतों में जोरदार इजाफा देखा जा रहा है और इसकी शुरुआत भी हो चुकी है। वसुंधरा, वैशाली और राजनगर एक्सटेंशन के साथ और कई स्थानों पर जमीन के दाम लगातार बढ़ते जा रहे हैं क्योंकि जैसे-जैसे रैपिड रेल के रूट का दायरा बढ़ेगा-वैसे ही जमीनों और प्रॉपर्टी के दाम और बढ़ते जाएंगे। मनीकंट्रोल की एक रिपोर्ट के मुताबिक जब से रैपिड रेल की घोषणा हुई है तब से लेकर अब तक इन जगहों पर प्रॉपर्टी के दाम 19 फीसदी तक उछल चुके हैं। जब रैपिड रेल ऑपरेशनल पूरा होने तक यहां की प्रॉपर्टी के दाम और ज्यादा बढ़ जाएंगे।

यह भी पढ़े: कांग्रेस ने बहू निधि जैन को जेठ शैलेंद्र जैन के खिलाफ दिया टिकट, लगातार बीजेपी की मुश्किलें बढ़ती जा रहीं!

100 फ़ीसदी इलेक्ट्रिफिकेशन के लक्ष्य को हासिल करने के बहुत ही क़रीब

आपको बता दें कि, भारतीय रेल 100 फ़ीसदी इलेक्ट्रिफिकेशन के लक्ष्य को हासिल करने के बहुत ही क़रीब है। केंद्र सरकार नमो भारत से पहले वंदे भारत जैसी आधुनिक ट्रेनों और अमृत भारत रेलवे स्टेशन योजना के तहत रेलवे स्टेशन को आधुनिक बनाने पर तेज़ी से काम कर रही है। नमो भारत या मेट्रो ट्रेनों जैसी आधुनिक ट्रेनों पर केंद्र सरकार की ओर से प्रस्तावित योजना के तहत तीन लाख करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मानना है कि नमो भारत, वंदे भारत और अमृत भारत रेलवे स्टेशन त्रिवेणी से इस दशक के आख़िर तक भारतीय रेल के आधुनिकीकरण को नया आयाम मिलेगा।

हमारे Whats App न्यूज ग्रुप से जुड़ें, आप हमें Facebook, Twitter, और Instagram पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular