संस्कारधानी जबलपुर में मोहन सरकार की कैबिनेट बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण फैसले, प्रेस वार्ता में कैलाश विजयवर्गीय ने दी जानकारी

author-image
By Ankush Baraskar
New Update
संस्कारधानी जबलपुर में मोहन सरकार की कैबिनेट बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण फैसले, प्रेस वार्ता में कैलाश विजयवर्गीय ने दी जानकारी

MP Cabinet Decisions : संस्कारधानी जबलपुर में आयोजित मोहन सरकार की कैबिनेट बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसले सरकार ने लिए जिसकी जानकारी संसदीय कार्य मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने प्रेस वार्ता कर दी। आइये जानते है कैबिनेट की बैठक में सरकार द्वारा क्या निर्णय लिए गए।

यह भी पढ़िए :- इंदौर के भवानी नगर में खेत पर मिला नाबालिक का शव, मामला दर्ज

वीरांगनाओ को श्रद्धांजलि अर्पित करने उनके नाम पर सम्मान देगी राज्य सरकार”

संसदीय कार्य मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने प्रेस वार्ता कर बताया की मध्य प्रदेश की आदर्श वीरांगनाओं के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके नाम से सम्मान देने का फैसला लिया है। प्रदेश सरकार रानी अवंती बाई और रानी दुर्गावती सम्मान इस वर्ष से देना शुरू करेगी। इसमें उन महिलाओं को सम्मानित किया जायेगा जो विपरीत परिस्थितियों में भी समाज सेवा निरंतर करती रहती हैं। इतना ही नहीं रानी दुर्गावती और रानी अवन्ति बाई की जीवन गाथा पर आधारित फिल्में भी सरकार बनाएगी। प्रदेश के विद्यालयों और महाविद्यालय में रानी दुर्गावती और रानी अवन्ति बाई पर आधारित फैलोशिप प्रोग्राम व पाठ्यक्रम भी शुरू किए जाएंगे।

तेंदूपत्ते का भुगतान 4000 रुपए प्रति बोरा

संसदीय कार्य मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने प्रेस वार्ता कर बताया की तेंदूपत्ता संग्रह को 4000 रुपए प्रति मानक बोरा भुगतान करने का निर्णय लिया है। पहले यह राशि ₹3000 प्रति मानक बोरा थी।

शुरू होगी रानी दुर्गावती श्री अन्न प्रोत्साहन योजना

कैलाश विजयवर्गीय ने प्रेस वार्ता में रानी दुर्गावती श्री अन्य प्रोत्साहन राशि की शुरुआत करने की भी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस योजना के अंतर्गत मोटा अन्न उगाने वाले लोगों को 10 रुपए से प्रति किलो प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।जो राशि सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में भेजी जाएगी।\

यहाँ भी पढ़िए :- मुरैना जिला चिकित्सालय के एनआईसीयू वार्ड में लगी आग, नवजात बच्चे सुरक्षित

4500 करोड़ रुपए की लागत से रोड इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलप

और महत्वपूर्ण निर्णयों में कैबिनेट में सरकार ने सिंचाई के रखाव को 45 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 65 लाख हेक्टेयर करने की भी बात कही है। इसके अलावा केंद्र के साथ मिलकर राज्य सरकार ने 4500 करोड़ रुपए की लागत से रोड इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलप करने का भी फैसला लिया है।

Latest Stories