कच्चे फल हरे और पके हुए फल का रंग क्यों बदलता है ?पके हुए फल का रंग क्यों बदलता है ?जानकर हैरान हो जाओगे आप, यहाँ मिलेगा उत्तर

author-image
By Ankush Baraskar
New Update

आपने अपने आसपास के पर्यावरण को देखकर बहुत कुछ महसूस किया होगा और प्रकृति के विभिन्न बदलावों को देखकर आपके मन में बहुत से प्रश्न उठे होंगे जिनके उत्तर जानने के लिए बहुत सी उत्सुकता भी रहती है, जैसे की फलो का पकना और रंगो का बदलना, इस प्रश्न का जवाब आज हम अपने आर्टिकल में लाये है, ऐसे बहुत से प्रश्न आपके दिमाग में होंगे जिनके उत्तर जानने की आपकी इच्छा होगी ,

यह भी पढ़िए :- दिमाग के बादशाहो का भारी तिकड़म, चाय बनाने के लिए भिड़ाया अतरंगी जुगाड़, देख आप हो जाओगे लोटपोट

publive-image

अक्सर आपने देखा होगा की फलो का रंग पकने से पहले हरा होता है जैसे जैसे समय बढ़ता है फल पकने लगता है और धीरे धीरे अपना रंग बदलने लगता है, जैसे केला पकने के बाद पीला, आम पकने के बाद पीला होना, ऐसे ही सब्जियों में भी होता है जैसे टमाटर का लाल होना, बैंगन का पीला होना

पके हुए फल का रंग क्यों बदलता है ?

इन सब क्रियाओ के पीछे का क्या साइंस है आज हम आपको बताते है, आपको बता दे कच्चे फल मे क्लोरोप्लास्ट्स उसकी ऊपरी वाली परत में होता है जिसमे हरी प्लांट कोशिकाएं पायी जाती है जिसमे क्लोरोफिल मौजूद होता है इसी के कारन कच्चे फल का रंग हरा होता है. क्लोरोफिल का काम प्रकाश संश्लेशन की क्रिया में मदद करना होता है

यह भी पढ़िए ;- सोने चांदी के दामों में आया उछाल, सोना वापिस 63 हजारी पर

publive-image

कुछ समय बाद क्लोरोप्लास्ट क्रोमोप्लास्ट में बदल जाता है क्लोरोप्लास्ट का क्रोमोप्लास्ट में बदलना रासयनिक प्रक्रिया है इसलिए धीरे धीरे फल का रंग बदल जाता है आशा है आपको आपके प्रश्न का उतर मिल गया होगा अगर और कोई ऐसे प्रश्न आपके पास है तो आप कमेंट करके बता सकते है हम आपके प्रश्न का उत्तर आप तक जरूर पहुचायेगे।

Latest Stories