Advertisment

कम खर्चे में लम्बे समय की कमाई का जरिया बनेगी अमरुद की खेती, जाने खेती और उन्नत किस्मो के बारे में

अमरूद का फल विटामिन सी, ए और पोटेशियम का अच्छा स्रोत है। यह फल पाचन क्रिया के लिए भी अच्छा होता है। आइये जानते है अमरुद की खेती के बारे में 

New Update
amrud
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

अमरुद की खेती: अगर आप फलो की बागवानी में अपना शौक रखते है. या खाली पड़ी जमींन में खेती करना चाहते है. तो अमरुद की खेती आपके लिए बढ़िया विकल्प है,जिसे कम खर्चे में अधिक मुनाफा कमाया जा सकता है. अमरूद का फल विटामिन सी, ए और पोटेशियम का अच्छा स्रोत है। यह फल पाचन क्रिया के लिए भी अच्छा होता है। आइये जानते है अमरुद की खेती के बारे में 

Advertisment

अमरुद की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी 

अमरुद की खेती के लिए उपयुक्त जलवायु और मिट्टी की अगर हम बात करे तो इसे उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय जलवायु बेहतर होती है और अमरूद को विभिन्न प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है, लेकिन अच्छी जल निकासी पीएच 5.5 से 7.5 वाली बलुई दोमट मिट्टी इसके लिए सबसे उपयुक्त मानी जाती है. 

अमरुद की उन्नत किस्मे 

Advertisment

अमरुद के किस्मो की अगर हम बात करे तो इसमें आपको सफेद अमरूद,सर्दार अमरूद, तैयब अमरुद,अहबहाद अमरुद जैसी उन्नत किस्मे देखने को मिल जाती है. इनका स्वाद भी भिन्न-भिन्न होता है. 

अमरुद की बुआई 

अमरुद के पौधे लगाने के लिए रोपण बीज या कलम पढ़ती अपनाई जा सकती है. बीज रोपन विधि से 4-5 साल में और कलम से रोपण करने पर 2-3 साल में पौधा फल देने लगता है. 

Advertisment

अमरुद की खेती की सिंचाई,नियंत्रण और उत्पादन  

अमरुद की खेती के लिए गर्मियों में 3-4 दिन और सर्दियों में 7-10 दिन के अंतराल पर नियमित रूप से सिंचाई करना चाहिए गोबर की खाद, नीम की खली और यूरिया का मिश्रण खाद के लिए अच्छा होता है। पेड़ों की नियमित रूप से छंटाई करे और कीट और रोग बचाव के लिए समय पर उचित उपाय करना चाहिए। अमरूद की प्रति हेक्टेयर औसत उपज 10-15 टन होती है। 

और अमरुद की फलो के बाजार में  अच्छी मांग है. जिसे बेचकर तगड़ा मुनाफा कमा सकते है. 

Advertisment
Latest Stories