Advertisment

कम समय में रोडपति से लखपति बना देगी "मजनू " की खेती, भारी वजन और दमदार चमक के साथ मार्केट में बढ़ेगी डिमांड

भारत में बहुतायत में बैगन की डिमांड होती है. तरह-तरह की सब्जिया और डिश बैंगन के साथ बनायीं जाती है. 

New Update
bahan
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

बैगन की खेती :- बैंगन भारत में एक लोकप्रिय सब्जी है। आलू और बैगन की सब्जी को लैला-मजनू की सब्जी कहाँ जाता है. इसकी खेती पूरे देश में विभिन्न जलवायु की स्थितियों में की जाती है। यदि आप भी बैंगन की खेती करने की सोच रहे हैं तो आपके अच्छे मुनाफे के लिए लाभदायक साबित हो सकती है. भारत में बहुतायत में बैगन की डिमांड होती है. तरह-तरह की सब्जिया और डिश बैंगन के साथ बनायीं जाती है. 

Advertisment

यह भी पढ़िए :- कम खर्चे में लम्बे समय की कमाई का जरिया बनेगी अमरुद की खेती, जाने खेती और उन्नत किस्मो के बारे में

बैगन की खेती के लिए उपयुक्त जलवायु और मिट्टी

बैंगन की खेती करने के लिए गर्म और आर्द्र जलवायु वाला स्थान उपयुक्त होता है, बैंगन 20°C से 30°C तापमान में उगाया जा सकता है. बैगन की खेती के लिए अच्छी जल निकासी वाली pH 6.0 से 6.8 वाली बलुई दोमट या दोमट मिट्टी बैंगन की खेती के लिए उपयुक्त होती है।

Advertisment

बैगन की बुआई 

उत्तर भारत में बैंगन की बुवाई का समय फरवरी से मार्च और जून से जुलाई तक होता है। दक्षिण भारत में बुवाई का समय जून से जुलाई और सितंबर से अक्टूबर तक होता है।वैसे तो बैगन हर सीजन में बढ़िया उत्पादन देता है. बीजों को 24 घंटे के लिए पानी में भिगोकर नर्सरी में बीजों को बुवाई करके 4-5 सप्ताह बाद जब पौधे 10-15 सेमी ऊंचे हो जाएं, तो उन्हें खेत में 60 सेमी x 60 सेमी की दूरी पर रोपाई करें

बैंगन की उन्नत किस्मे 

Advertisment

बैंगन की उन्नत किस्मो में जैसे पंजाब नीलम,पंजाब सदाबहार, पीआर-5,आरआर-27 आदि सभी किस्मे 100 क्विंटल से ज्यादा प्रति एकड़ पैदावार होती है. 

सिंचाई और देखभाल और नियंत्रण 

बैंगन को नियमित सिंचाई की आवश्यकता होती है। खेत में अच्छी तरह से सड़ी हुई गोबर की खाद या कम्पोस्ट खाद डालें। खरपतवारों को नियमित रूप से निकालते रहें। कीटों और रोगों से बचाव के लिए उचित निवारक और नियंत्रण उपाय करें। फल पूरी तरह से विकसित होने और चमकदार रंग आने पर तुड़ाई के लिए तैयार होते हैं।

यह भी पढ़िए :- किसानो की जेब नोटों की गड्डी से भर देगी कद्दू की खेती, कम समय में ताबड़तोड़ उत्पादन, देखे जानकारी

उत्पादन और कमाई 

बैगन की नियमित तरीको से और उन्नत खेती करने पर प्रति एकड़ 120-150 क्विंटल प्रति एकड़ पैदावार होती है. जिससे कम समय में लाखो का मुनाफा कमाया जा सकता है. 

 

Advertisment
Latest Stories