क्या 2024 में मोदी बनाम खरगे की जंग होंगी ?

author-image
By Himanshu Ghodki
New Update
pt

MP NEWS- 2024 के चुनावी महासमर को लेकर इंडिया गठबंधन राजनीतिक रणनीति को आखिरी रूप देने में जुट गया है इसी के मद्देऩजर दिल्ली में गठबंधन के घटक दलों की अहम बैठक हुई है इस बैठक में कम से कम विपक्षी गठबंधन के चेहरे को लेकर तो पहला नाम सामने आया ये नाम है कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे का।

बताया जा रहा है कि इस मीटिंग में पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने पीएम उम्मीदवार के लिए मल्लिकार्जुन खरगे का नाम प्रस्तावित किया है जिसका दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी समर्थन किया है।

यह भी पढ़िए-नड्डा से मुलाकात के बाद शिवराज की भूमिका तय हो गई देखे यहाँ

राजनीतिक जानकारों का मानना है कि ऐसा कर ममता बनर्जी दलित कार्ड खेलना चाहती हैं मल्लिकार्जुन खरगे दलित समुदाय से आते हैं कांग्रेस ने मल्लिकार्जुन खरगे को अध्यक्ष बनाकर एक तरह से फिर से अपने पुराने आधार दलित समुदाय को साधने की कोशिश की है तो अब विपक्षी गठबंधन के सहयोगी दल भी खरगे के चेहरे पर दलित समुदाय को लामबंद करना चाहते हैं

इससे पहले भी दलित पीएम के मुद्दे को हवा दी जाती रही है INDIA गठबंधन की बैठक का सबसे हैरान करने वाला पहलू मल्लिकार्जुन खरगे का नाम प्रधानमंत्री पद के लिए प्रस्तावित किया जाना ही बताया जा रहा है इस प्रस्ताव पर खरगे भी जोश से भरे नज़र आए लेकिन उन्होंने गंभीरता बनाए रखी और प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा- पहले चुनाव जीता जाए, प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार उसके बाद चुना जाएगा।

हालांकि INDIA गठबंधन में इस पर व्यापक रूप से सहमति नहीं बन पाई है लेकिन मल्लिकार्जुन खरगे को उनकी जाति, अनुभव और गांधी परिवार से उनकी करीबी की वजह से उनकी प्रस्तावित दावेदारी में वजन और दम दोनों ही दिखता है हालांकि पीएम फेस के सवाल पर यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है वैसे निगाहें बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती पर भी लगी हैं।

अगर मायावती देश के पहले दलित प्रधानमंत्री के विचार को समर्थन देती हैं तो 2024 के लिए इंडिया गठबंधन को ज़्यादा मजबूती मिल सकती है इस फैसले का सबसे बड़ा असर देश के सबसे ज्यादा 80 लोकसभा सीटों वाले राज्य यूपी में पड़ा सकता है उत्तर प्रदेश में साल 2014 और 2019 में बीजेपी ने बड़ी जीत दर्ज की थी अब यादि एक उम्मीदवार एक सीट और दलित वोट एकमुश्त में पड़ेंगे तो विपक्षी गठबंधन को उम्मीद है कि बीजेपी की उम्मीदों पर पानी फेरा जा सकता है।

यह भी पढ़िए-चुनावी राजनीति से डॉ गोविंद सिंह ने क्यों बनाई दूरी ? देखे यहाँ

विपक्ष की इस अहम बैठक में लोकसभा सीटों के बंटवारे पर ज्यादा जानकारी तो सामने नहीं है…लेकिन कम से कम एक चेहरे को फिलहाल तो आगे बढ़ाया ही गया है।

वैसे आपको बता दें कि कांग्रेस ने राष्ट्रीय गठबंधन कमेटी बनाई है मुकुल वासनीक की अध्यक्षता में बनी इस समिति में अशोक गहलोत, भूपेश बघेल, सलमान खुर्शीद और मोहन प्रकाश को भई शामिल किया गया है

Latest Stories