Advertisment

Chhatarpur: उत्तराखंड से महाराष्ट्र एवं कर्नाटक तक बदनाम हो रहा छतरपुर का वन अमला, टीपी काटने पर हो रही 800 से 1500 तक की अवैध वसूली

कैमाहा बैरियर की जगह छतरपुर हमा डिपो मेें बगैर बर्दीधारी काट रहे टीपी,ट्रक चालकों को सुविधाशुल्क देने के बावजूद घंटों करना पड़ता है इंतजार,वर्षो से चल रहे खेल की उच्च स्तरीय जांच के बाद ही हो सकती है बड़ी कार्यवाही

New Update
उत्तराखंड से महाराष्ट्र एवं कर्नाटक तक बदनाम हो रहा छतरपुर का वन अमला, टीपी काटने पर हो रही 800 से 1500 तक की अवैध वसूली
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

Chhatarpur/संवाददाता संदीप सेन छतरपुर :- उत्तराखंड से छतरपुर होकर अन्य राज्यों के लिए लकड़ी लेकर जा रहे ट्रक चालकों को परेशान किया जा रहा है। मप्र सीमा में प्रवेश करने पर कैमाहा अंतरराज्यीय वेरियर पर टीपी न काटकर सिर्फ सील लगाकर रवाना कर दिया जाता है, जबकि वही अंतरराज्यीय सीमा पर ही टीपी काटने का प्रावधन है।  लेकिन मुख्यालय में हमा डिपों में वगैरवर्दीधारी वनकर्मी टीपी काट रहे है।

Advertisment

यह भी पढ़िए :- Maukheda: शादी समारोह मे उपद्रव मचाने वाले अपराधियों पर गुलगंज पुलिस ने कसा शिकंजा आरोपियों को किया गिरफ्तार

ट्रक  चालकों का आरोप है कि 800 से 1500 रुपए तक अलग देने के बावजूद हमें घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। जबकि अन्य राज्यों में प्रवेश करने पर रसीद के अलावा पैसा नहीं लगता, ना ही घंटों इंतजार करना पड़ता है। वसूली एवं रूढ़ रवैया के चलते छतरपुर वन अमला बदनाम हो रहा है एवं वरिष्ठ अधिकारियों की छवि धूमिल हो रही है। प्रतिदिन महोबा रोड से गुजरने वाले 8 से 10 ट्रक चालकों से इसी प्रकार की अवेध बसूली होती है। मामले की शिकायत कर दी गयी है। जिसमें  शिकायतकर्ता ने उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा मामले की जांच कराई जाए, तो अवैध वसूली पर अंकुश लग सकता है।

यह भी पढ़िए :- गर्मी के दिन कटेंगे अब ठंडी जैसे ! ये कूलर खिड़की पर लगाते ही आपका घर बन जायेगा कश्मीर देखे जानकारी

टीपी काटने व अवैध वसूली करने के मामले में बरसों से एक ही स्थान पर पदस्थ एक फॉरेस्ट गार्ड  का नाम सामने आया है। कई ट्रक चालको ने बताया कि बॉर्डर इंटर होते ही वहां पर मौजूद कर्मचारियों द्वारा कागज के पीछे शील लगाई जाती है और इसके बाद फॉरेस्ट गार्ड का नंबर उपलब्ध करा दिया जाता है, जिसके बाद वह ट्रक चालक महोबा रोड ओवर ब्रिज के पास वाहन को खड़ा कर हमा डिपो कार्यालय पहुंचते हैं और यहां पर  से बात कर टीपी कटाते हैं । इस दौरान सिस्टम के नाम पर 800 से 1500 या इससे अधिक रुपए की वसूली की जाती है। यह राशि नहीं देने पर यह राशि नहीं देने पर ट्रक चालकों को घंटों इंतजार करना पड़ता है।

#Chhatarpur breaking news #Chhatarpur police #Chhatarpur chek post #chhatarpur crime news
Advertisment
Latest Stories