Advertisment

Khandwa: जाने क्या हुआ तब जब विधायक के बेटे का काटा चालान

Khandwa: आगामी लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद देश भर मे आचार संहिता लग गई है । जिसके बाद पुलिस प्रशासन सशक्त मोड में आ गई है।

New Update
k

Khandwa: Know what happened when challan was issued to MLA's son

Advertisment

जहां पुलिस वाहन की चैंकिग की कर रही है। जिससे की   चुनाव के बीच कोई परेशानी  न आऐ ।  इसी बीच एक ऐसा मामला सामने आया है । जो पुलिस प्रशासन और राजनीतिक शक्ति के बीच एक एक विभेद करता है ।  

Advertisment

ये भी पढ़े :- MP: एमपी मे आखिर कब जारी होगी कांग्रेस की लिस्ट

 

ये है पूरा मामला 

Advertisment
आपको बता दे कि मध्य प्रदेश में खंडवा पुलिस  चैंकिग अभियान चला रही थी। इसी बीच विधायक कंचन तनवे के बेटे की गाड़ी को पुलिस ने रोक लिया । जो सीट बेल्ट नहीं लगाया था । इसके चलते पुलिस ने उसका  चालान काट दिया।  इसके बाद जो विधायक की प्रतिक्रिया चर्चा का विषय बन गई है । 
Advertisment

 धमकी के अलावा कुछ नहीं  मिलता ऐसे मामलो में 

आपको बता दे कि पुलिस प्रशासन और राजनीतिक शक्ति के बीच  जब ऐसा मामला पाया जाता है तब किसी विधायक या सांसद के परिजन का  चालान काटने पर वो पुलिस की  वर्दी उतारने की धमकी देता नजर आते है ।  लेकिन यदि जनप्रतिनिधि गंभीर हो तो वो चालान कटवाने में ही अपनी खैरियत समझते हैं। ऐसा ही खण्डवा के मामले मे हुआ जहां पर  विधायक कंचन तनवे के बेटे की गाड़ी को पुलिस ने रोक लिया । जो सीट बेल्ट नहीं लगाया था । इसके चलते पुलिस ने उसका चालान काट दिया। जिसको लेकर परिजनों ने समझाईश दी " बेटा रिक्वेस्ट कर लो या चालान कटवा लो। 


  चालान कटने के बाद क्या ये  बोले विधायक पति?

खण्डवा के मामले मे हुआ जहां पर विधायक कंचन तनवे के बेटे की गाड़ी को पुलिस ने रोक लिया । जो सीट बेल्ट नहीं लगाया था । इसके चलते पुलिस ने उसका चालान काट दिया।इस पर विधायक पति मुकेश तनवे बेटे के पक्ष में कोतवाली थाने पहुंचे. पुलिस के अधिकारियों से चर्चा कर मामले को सुलझाया । 

कानून सबके लिए एक है 

इस मामले को लेकर मुकेश तनवे ने कहा बिना सीट बेल्ट लगाए बेटा कार चला रहा था।  जिसे पुलिस ने रोका।मैने किसी पुलिस वाले से बात नहीं की है। मैंने बेटे से कहा कि तुम रिक्वेस्ट कर लो नहीं तो चालान भर दो।   नियम सब के लिए नियम सबके लिए बराबर हैं।  यही कारण है कि बेटे ने फिर चालान कटवाया है।  अगर जनप्रतिनिधि ही अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभाएंगे तो जनता भी निभाने से पीछे नहीं हटेगी। 
Advertisment
Latest Stories