Advertisment

Lok Sabha Chunav: इस सीट से बीजेपी की बढ़ी मुश्किलें ,कांग्रेस के 2 पूर्व विधायकों के बीच होने जा रहा है मुकाबला

Lok Sabha Chunav: कांग्रेस ने मध्य प्रदेश की बाकी बची छह सीट में से तीन सीट पर अपने प्रत्याशी के नाम के ऐलान कर दिये है । जिसमें प्रदेश की दमोह , गुना, विदिशा सीट है । इसमें से जिस सीट पर भारतीय जनता पार्टी की मुश्किलें बढ़ गई है ।

New Update
K

Lok Sabha Election: BJP's problems increased from this seat, there is going to be a contest between 2 former Congress MLAs

Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00
Advertisment
जहां पर प्रदेश की दमोह सीट पर  कांग्रेस और बीजेपी ने अपने प्रत्याशियों के नामों के ऐलान कर दिये है। वही अब  इस सीट पर कांग्रेस के ही दो पूर्व विधायक एक दूसरे के सामने आ गए है । जो लोकसभा के चुनाव लड़ रहे हैं। 
Advertisment
Advertisment

दमोह लोकसभा सीट पर बढ़ी मुश्किलें 

मध्य प्रदेश में लोकसभा की 29 सीट है जिसमें से बीजेपी ने सभी सीट पर अपने प्रत्याशी के नाम के ऐलान कर दिये है । जबकि कांग्रेस ने मध्य प्रदेश की बाकी बची छह सीट में से तीन सीट पर अपने प्रत्याशी के नाम के ऐलान कर दिये है। जिनमें प्रदेश की दमोह लोकसभा सीट पर भी है ।  जहां पर  बीजेपी की मुश्किलें बढ़ गई है ।  कांग्रेस ने बंडा विधानसभा सीट से पूर्व विधायक तरवर सिंह लोधी को अपना प्रत्याशी बनाया है। जबकि बीजेपी ने पूर्व विधायक(कांग्रेस) राहुल लोधी को  दमोह से  से  अपना प्रत्याशी बनाया है। 
Advertisment

2018 में ये रहा है 

आपको को बता दे कि प्रदेश की की दमोह लोकसभा सीट पर भी है । जहां पर बीजेपी की मुश्किलें बढ़ गई है । कांग्रेस ने बंडा विधानसभा सीट से पूर्व विधायक तरवर सिंह लोधी को अपना प्रत्याशी बनाया है। जबकि बीजेपी ने पूर्व विधायक(कांग्रेस) राहुल लोधी को दमोह से से अपना प्रत्याशी बनाया है। जबकि इससे पहले  2018 में  बंडा से कांग्रेस विधायक तरवर सिंह लोधी और राहुल लोधी को भारतीय जनता पार्टी चुनावी मैदान में उतारा है। जो दोनों आपस में  रिश्तेदार हैं। 

कांग्रेस से इस कारण है उम्मीदवार राहुल लोधी

बता दे कि इस से पहले साल 2018 में कांग्रेस सरकार से  राहुल लोधी और तरवर सिंह विधायक बने  थे। लेकिन 2020 में सिंधिया के बीजेपी पार्टी में जाने के बाद  प्रहलाद पटेल  बड़ामलहरा विधायक प्रदुम्न लोधी और दमोह विधायक राहुल लोधी ने बीजेपी का दामन थाम  लिया था । इसके अलावा उपचुनाव में प्रदुम्न ने राहुल लोधी हराया था । 

बीजेपी के लिए मुश्किलें हो सकती हैं खड़ी 

वहीं राजनीतिक जानकार का कहना हैं कि अगर प्रदेश के उपचुनाव की तरह ही जयंत मलैया और उनके समर्थक इस बार अगर राहुल का सपोर्ट नहीं करते हैं।  तो इस बार  बीजेपी के लिए मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं। 

तरवर सिंह इसलिए  कांग्रेस उम्मीदवार

 वहीं कांग्रेस पार्टी ने प्रदेश की बंडा विधानसभा से पूर्व विधायक तरवर सिंह लोधी को दमोह सीट से चुनाव के मैदान में उतारा है। जो जातिगत समीकरण  में अहम माना जाता है। 

लोधी बाहुल्य सीट की वजह से 

आपको बता दे कि दमोह सीट से  लोधी बाहुल्य सीट होने के चलते ज्यादातर राजनीतिक दल इसी वर्ग प्रत्याशियों को चुनाव लड़वाते हैं।

 इन विधानसभा क्षेत्रों में आता है दमोह

बता दे कि प्रदेश की दमोह लोकसभा क्षेत्र में विधानसभा की 8 सीटें आती हैं।  इनमें से  चार सीटें दमोह जिले की दमोह, पथरिया, जबेरा और हटा  की  हैं।  इस से अलग तीन सीट में  सागर जिले की बंडा, देवरी और रहली शामिल हैं।  इसके अलावा  छतरपुर जिले की एक सीट बड़ामलहरा भी  है। 

ये है दमोह लोकसभा सीट के जातिगत समीकरण

 प्रदेश की दमोह लोकसभा सीट पर जातिगत समीकरण अहम  है। यहां पर लोधी बाहुल्य सीट के चलते राजनीतिक दल इसी वर्ग से आने वाले प्रत्याशियों को चुनाव लड़वाते हैं।  यहां लोधी, कुर्मी वर्ग यानि ओबीसी यहां 22.4 प्रतिशत के आसपास है।  वही  वैश्य, जैन यानि सवर्ण केवल  7 प्रतिशत  हैं।  ब्राहमण-राजपूत 10 प्रतिशत हैं, वहीं आदिवासी वर्ग 9.6 प्रतिशत हैं।  जबकि यादव मतदाता भी 5.7 प्रतिशत हैं। वही पिछले लोकसभा चुनाव  2019 में वर्तमान कैबिनेट मंत्री प्रहलाद पटेल को बीजेपी ने चुनाव लड़वाया था। जहां पर प्रहलाद पटेल ने कांग्रेस उम्मीदवार बने प्रताप लोधी को 2 लाख 13 हजार 299 वोटों से हराया था। 

Advertisment
Latest Stories