Advertisment

MP News : पानी की खोज में गांवों की और बढ़ रहे है वन्यप्राणी, जिससे लोगों को रही है परेशानी

MP News : जल ही जीवन है । इसे हम बचपन से सुनते आ रहे है । लेकिन इसको लेकर हम कोई भी कदम नहीं ले रहे है । जिससे की पानी की समस्या का निदान हो सके।

New Update
R

MP News: Wild animals are moving towards villages in search of water, due to which people are facing problems.

Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00
Advertisment
 इसी बीच मध्य प्रदेश के बालाघाट ज़िले के कटंगी नगर में  वन्यप्राणी में पानी की खोज में गांवों की और बढ़ रहे है । जिसके चलते प्रदेश में एक सप्ताह के बीच  वन्य जीवों के हमले से सात लोग घायल हो गए। जिसमें मुख्य रूप से  जंगली सूअर से चार और भालू से तीन लोग  हैं।
Advertisment
Advertisment

पानी की कमी के चलते हुआ 

बता दे कि प्रदेश के बालाघाट ज़िले के कटंगी नगर में वन्यप्राणी में पानी की खोज में गांवों की और बढ़ रहे है । जिसके चलते प्रदेश में एक सप्ताह के बीच वन्य जीवों के हमले से सात लोग घायल हो गए। जिसमें मुख्य रूप से जंगली सूअर से चार और भालू से तीन लोग हैं। जहा पर अब पानी की कमी हो रही है । इस के चलते वहां की घास सूखने लगी है।
Advertisment

महुआ बीनने के चलते हो रही है समस्या 

वही  वन्य जीवों के हमले का कारण दोनों को आपस में  टकरा जाना है । जहां पर ग्रामीण महुआ बीनने के लिए सुबह से जंगल व खेतों में पहुंच जाते हैं। जिस समय वन्य जीवों  पानी की  खोज में  आते है । 

बाघ, तेंदुए, भालू, चीतल, हिरण, सहित है ये वन्यप्राणी

आपको बता दे कि प्रदेश बालाघाट ज़िले के कटंगी नगर के इन जंगलों में बाघ, तेंदुए, भालू, चीतल, हिरण, बायसन, नीलगाय के अलावा अन्य वन्यप्राणी बहुतायत में पाए जाते है। 

एक सप्ताह मे  सात लोगों को किया घायल 

बता दे कि  एक सप्ताह के बीच वन्य जीवों के हमले से सात लोग घायल हो गए। जिसमें मुख्य रूप से जंगली सूअर से चार और भालू से तीन लोग हैं।  मध्य प्रदेश के बालाघाट ज़िले के कटंगी नगर में वन्यप्राणी में पानी की खोज में गांवों की और बढ़ रहे है । जिसके चलते प्रदेश में एक सप्ताह के बीच वन्य जीवों के हमले से सात लोग घायल हो गए। जिसमें मुख्य रूप से जंगली सूअर से चार और भालू से तीन लोग हैं। जिससे लोगों में दहशत बनी रहती है। 
  

जंगल में पानी खत्म होना है इसकी वजह 

आपको बता दे कि इसका कारण बालाघाट ज़िले के कटंगी नगर के जंगल में पानी खत्म होना है । जिसके चलते  सागौन की अधिक है । जो पेड़ के नीचे घास व कंदमूल नहीं उगते है । 
 

कटंगी के अंतर्गत आते है  आठ उप परिक्षेत्र

बालाघाट ज़िले के कटंगी नगर के अंतर्गत आठ उप परिक्षेत्र हैं। इसमे  कटंगी, मुंदीवाड़ा, बोनकट्टा, तिरोड़ी, सीतापठौर, महकेपार, कन्हड़गांव व गोरेघाट आते  है और इसमें कुल 28 बीटें है।
Advertisment
Latest Stories