Advertisment

Rewa News: सेवा सहकारी समिति में किसान के साथ कि गई धोखाधड़ी, किसान कि 48 बोरी फसल ली गई और 29 बोरी कि कर दी गई फीडिंग

जहाँ किसान द्वारा 48 बोरी कि तौल कराई गई, लेकिन समिति के कर्मचारियों द्वारा 29 बोरी कि ही फीडिंग कि गई, बांकी फसल कि फीडिंग नहीं कि गई, जिस मामले से किसान परेशान है. 

New Update
सेवा सहकारी समिति में किसान के साथ कि गई धोखाधड़ी, किसान कि 48 बोरी फसल ली गई और 29 बोरी कि कर दी गई फीडिंग
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

Rewa News/संवाददाता मनोज सिंह रीवा:- जिले के सिरमौर क्षेत्र अंतर्गत क्योंटी में स्थित सेवा सहकारी समिति खैरहन क्रमांक 1 का मामला, जहाँ फसल बिक्री कर चुके किसान के साथ समिति के कर्मचारियों द्वारा फसल में धोखाधड़ी किए जाने का मामला प्रकाश में आया है,जहाँ किसान द्वारा 48 बोरी कि तौल कराई गई, लेकिन समिति के कर्मचारियों द्वारा 29 बोरी कि ही फीडिंग कि गई, बांकी फसल कि फीडिंग नहीं कि गई, जिस मामले से किसान परेशान है. 

Advertisment

यह भी पढ़िए :- केजरीवाल के प्रधानमंत्री वाले बयान पर अमित शाह का जवाब, हम 400 सीटें पार करने जा रहे हैं और मोदी जी तीसरी बार इस देश के पीएम बनेंगे

उक्त मामले से परेशान किसान जब खरीदी केंद्र पहुंचे, जहाँ किसान के साथ समिति के कर्मचारी नोकझोंक पर उतर आए, देखने में आया है कि समिति के रजिस्टर में मात्र 29 बोरी ही दर्ज है, जबकि किसान को 48 बोरी तौल कि सील लगी रशीद दी गई है,इस मामले में जब खरीदी केंद्र में उपस्थित कम्प्यूटर ऑपरेटर किरण गौतम से बात कि गई तो वह बातचीत करने से ही मना कर दिया, वही समिति प्रबंधक रामचरण वर्मा जो खरीदी केंद्र कभी नहीं आते, केंद्र से अक्सर नदारद रहते है, खरीदी केंद्र में दलालो का रसूख चल रहा है, 

पीड़ित किसान रितेश द्विवेदी ने जानकारी देते हुए बताया कि...वह पिछले माह अपनी सरसों कि फसल बेचने सेवा सहकारी समिति खैरहन केंद्र क्रमांक 1 में आए थे, जहां कुल 48 बोरी सरसों की उन्होंने बिक्री की,  जिसकी पावती भी समिति द्वारा दी गई थी, किसान ने बताया कि खरीदी केंद्र में जबरन 51 किलो 100 ग्राम की भरती ली गई, जो नियम विरुद्ध था, जब मैने इसका विरोध किया तो मेरी कुल 48 बोरी में केवल 29 बोरी की ही फीडिंग कम्प्यूटर ऑपरेटर किरण गौतम के द्वारा किया गया, शेष 19 बोरी की फीडिंग समिति के कर्मचारी द्वारा नहीं किया गया,किसान ने जब इस बात को लेकर समिति के कर्मचारी से बात कि तो वह भड़क गए और कहा कि तुम्हें जहाँ शिकायत करना हो, कर दो, मेरा कुछ नहीं कर सकते, हम 51 किलो भरे य 52, 

Advertisment

किसान ने यह भी बताया कि सहकारी समिति के कर्मचारी ने कुल 48 बोरी कि ऑफलाइन पावती भी दे रखी है, लेकिन शेष 19 बोरी की फीडिंग समिति के कर्मचारियों द्वारा नहीं कि गई, और फसल गायब कर दी गई,
पीड़ित किसान ने जिला कलेक्टर से न्याय कि गुहार लगाते हुए कहा कि मै गरीब किसान हूँ, मेरी मेहनत मारी जा रही है, मेरी अधिक तौलाई की मात्रा को वापिस करवाया जाए य शेष 19 बोरी की फीडिंग कराई जाए अन्यथा फसल वापस कि जाए. 

यह भी पढ़िए :- 17 सितंबर को पीएम मोदी रिटायर होने वाले हैं.उनकी सरकार बनी तो सबसे पहले योगी आदित्यनाथ को निपटाएंगे - केजरीवाल

देखने में आया है कि सेवा सहकारी समिति खैरहन क्रमांक 1 में कर्मचारियों द्वारा मनमानी पूर्ण रवैया अपनाकर कार्य किया जा रहा है, किसानों कि फसल कि तौलाई  51 किलो 100 ग्राम तक कि जा रही है, जबकि शासन द्वारा तौलाई  50 किलो 800 ग्राम तक ही करने का नियम है.आपको बता दे कि खरीदी केंद्र खैरहन क्रमांक 1 में किसानों को न तो पानी पीने कि सुविधा उपलब्ध कराई गई है न ही उन्हें बैठने कि कोई व्यवस्था कि गई है, खरीदी केंद्र में किसानों कि समस्या को देखने सुनने वाला प्रशासन का कोई जिम्मेदार व्यक्ति नहीं रहता है जिससे किसान लूट रहा है।

Advertisment
Latest Stories