Advertisment

Rewa : विहान हॉस्पिटल में महिला मरीज की मृत्यु होने के बाद भी डॉक्टर कर रहे थे इलाज, अस्पताल का गोरख धंधा हुआ उजागर, लाश के साथ किया गया सौदा

महिला मरीज जो अपने परिजनों के साथ विहान अस्पताल रीवा पहुंची थी, जहाँ पथरी कि शिकायत पर उसे विहान हॉस्पिटल में भर्ती किया गया, फिर ऑपरेशन किया गया, लेकिन ऑपरेशन के बाद ही महिला का स्वास्थ्य अचानक बिगड गया और उसकी अस्पताल में ही मौत हो गई, लेकिन विहान अस्पताल के डॉक्टर व कर्मचारी मरीज के परिजनों से पैसा ऐठने के लिए महिला कि मौत कि सूचना उन्हें नहीं दिएव छिपाए रहे,

New Update
विहान हॉस्पिटल में महिला मरीज की मृत्यु होने के बाद भी डॉक्टर कर रहे थे इलाज, अस्पताल का गोरख धंधा हुआ उजागर, लाश के साथ किया गया सौदा
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

Rewa/संवाददाता मनोज सिंह रीवा:- जिले में व शहर में कुकुरमुत्ते कि तरह प्राइवेट अस्पतालो का एक बड़ा मकड़जाल बना हुआ है,बड़े नर्सिंग होम व प्राइवेट अस्पतालें संचालित है, जिनका कार्य मरीजो से सिर्फ मोटी रकम कमाना है, प्राइवेट अस्पताल में मरीजो के साथ जांच के नाम पर व अच्छा उपचार करने के नाम पर सिर्फ पैसे का खेल खेला जाता है,रीवा में कुछ ऐसी अस्पतालें है जहाँ अच्छा उपचार व इलाज होना बताकर मरीजो को भर्ती किया जाता है, फिर उपचार व ऑपरेशन के नाम पर सिर्फ उनसे पैसे वसूल करने के लिए एक बड़ा खेल खेला जाता है,अस्पताल में भर्ती मरीज को स्वस्थ करने कि कोई गारंटी नहीं, बल्कि मरीज के परिजनो को मूर्ख बनाकर उनसे पैसा ऐंठा जाता है,

Advertisment

यह भी पढ़िए :- Rewa News: पुलिस ने एक हाई प्रोफाइल तरीके से की गई चोरी का किया खुलासा,आरोपियों के कब्जे से पुलिस ने एक ट्रक, कार सहित लाखों कि पाइप कि बरामद

ताजा व बड़ा मामला सामने आया है रीवा शहर में स्थित एक नामी गिनामी सरकारी डॉक्टर के विहान हॉस्पिटल का, जो करोड़ों रूपये कि लागत से बना हुआ है, जिस अस्पताल में मरीज को आयुष्मान कार्ड से इलाज होने का झांसा देकर एक बड़ा खेल खेला जाता है,विहान अस्पताल में एक महिला के साथ ऐसी घटना हो गई जिसे सुनकर आप भी अस्पताल के डॉक्टर व कर्मचारियो के प्रति गुस्से में आ जाएंगे,जी हाँ प्राप्त जानकारी के मुताविक एक महिला मरीज जिसके पेट में पथरी कि शिकायत थी, वह घर से स्वस्थ होकर व पैरो से चलकर तो आई लेकिन चार कंधे में अस्पताल से निकली। 

महिला मरीज जो अपने परिजनों के साथ विहान अस्पताल रीवा पहुंची थी, जहाँ पथरी कि शिकायत पर उसे विहान हॉस्पिटल में भर्ती किया गया, फिर ऑपरेशन किया गया, लेकिन ऑपरेशन के बाद ही महिला का स्वास्थ्य अचानक बिगड गया और उसकी अस्पताल में ही मौत हो गई, लेकिन विहान अस्पताल के डॉक्टर व कर्मचारी मरीज के परिजनों से पैसा ऐठने के लिए महिला कि मौत कि सूचना उन्हें नहीं दिएव छिपाए रहे, और वेंटीलेटर में महिला कि लाश रखकर उसका इलाज करते रहे,बताया जा रहा कि महिला कि मौत गत बीती रात्रि में ही हो गई थी, लेकिन अस्पताल प्रबंधन परिजनों को इसलिए नहीं बताया कि 50 हजार रुपए जमा कराने थे, इसलिए अस्पताल प्रबंधन ने महिला कि मौत कि सूचना उसके परिजनों को देर से दी. 

Advertisment

जैसे ही अस्पताल प्रबंधन ने महिला कि मौत कि सूचना परिजनों को दी, परिजन हैरान व परेशान हो गए, वह यकीन नहीं कर पाए कि जो महिला स्वयं चलकर आई उसकी मौत कैसे हो गई, परिजनों ने अस्पताल के डॉक्टरो पर आरोप लगाते हुए अस्पताल में हंगामा खड़ा कर दिए, उन्होंने अस्पताल प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगाए, और कहा कि उन्हें गुमराह किया जाता रहा, जबकि ऑपरेशन के बाद ही महिला कि मौत हो गई थी, अस्पताल प्रबंधन ने परिजनों से यह भी कहा था कि 2.5 लाख का इलाज हो गया है, 50 हजार और जमा करना पड़ेगा, जबकि महिला कि मौत कि सूचना अस्पताल के कर्मचारियों ने नहीं दी, और फिर 50 हजार में लाश का सौदा करने पर उतारू हो गए ,

पीड़ित परिजनों ने कहा कि.. महिला कि मौत के बाद भी अस्पताल के डॉक्टरो द्वारा वेंटीलेटर में लाश रखकर झुंठा ही उपचार किया जा रहा था, वही महिला के मौत के बाद परिजनों द्वारा अस्पताल में हंगामा होता देख व उसे रोकने के लिए विहान हॉस्पिटल के मुख्य डॉक्टर साहब जो परिजनों को 50 हजार देने सौदेबाजी करने में जुट गए,परिजनों ने विहान अस्पताल प्रबंधन पर कई गंभीर आरोप भी लगाए है, जो कि अब एक जांच का विषय बन गया है. 

यह भी पढ़िए :- एक ही छत के निचे तीन पीढ़ियों के 38 सदस्यों का संयुक्त परिवार, एक ही किचन में बनता है खाना, बुडरख के चौबे परिवार एकता की मिसाल

प्राप्त जानकारी के अनुसार विहान अस्पताल जो रीवा के रतहरा में बना हुआ है, बताया गया है कि इस अस्पताल का संचालन रीवा संजय गांधी अस्पताल के जाने माने डॉक्टर राकेश पटेल करते है, करोड़ो कि लागत से बना अस्पताल जो उनका निजी अस्पताल है,यह भी बताया जा रहा कि चूंकि विहान अस्पताल डॉक्टर राकेश पटेल का है, ऐसे में ज्यादातर मरीज जातिगत जाते है जो अधिक विश्वास मानकर जाते है, लेकिन उन्हें यह पता नहीं रहता कि अस्पताल में उपचार का वही सिस्टम लागू है जो हर अस्पतालों का सिस्टम है, इसके बाबजूद भी लोग ठेसा ठेस जाते है,अब बड़ा शवाल यह कि महिला कि मौत के बाद क्या अस्पताल प्रबंधन पर कोई लीगल कार्यवाई जिला प्रशासन करेगा..? यह देखने वाली बात होगी।

Advertisment
Latest Stories