Advertisment

Ashoknagar: रंग पंचमी पर करीला धाम में जुटे लाखों श्रद्धालु, मुख्यमंत्री डा मोहन यादव ने भी मां जानकी के दरबार में टेका माथा

करीला मेला का मुख्य आकर्षण राई नृत्य होता है और यह राई नृत्य देखने श्रद्धालु दूदू से आते हैं,हम आपको बता दें कि करीला मेला जाने वाले हर मार्ग पर भक्तों द्वारा जगह जगह भंडारे का भी आयोजन दिन रात चलता रहा।

author-image
By Ankush Baraskar
New Update
cm
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00
Advertisment

Ashoknagar/संवाददाता दसरथ सिंह यादव मुंगावली :- मुंगावली देशभर में प्रसिद्ध हो चुके बुंदेलखंड का करीला मेला में शनिवार को लाखों श्रद्धालुओं में मां जानकी के दरबार में अपना माथा टेका हम आपको बता दें कि करीला में मां जानकी के दरबार में और मेला परिसर में भीड़ इतनी थी कि कि श्रद्धालुओं को पैदल चलने में परेशानी आ रही थी.

Advertisment

यह भी पढ़िए :- Gwalior: ग्वालियर में घर के अंदर संदूक में बंद मिली दादा की लाश , पड़ोसी की छत पर छुपी मिली नातिन

हम आपको बता दें कि करीला को आने वाले हर मार्ग पर वाहनों की बड़ी संख्या में आवाजाही होने से बार-बार जाम लग रहे थे सुबह से ही श्रद्धालु हो का करेला पहुंचना शुरू हो गए थे ए सिलसिला देर रात तक चलता रहा श्रद्धालुओं ने मां जानकी के जयकारों के साथ-साथ मां जानकी के दर्शन किए और अपनी मन्नत तो अनुसार राय बधाई कराई.

मुख्यमंत्री ने किए माँ जानकी के दर्शन

Advertisment

हम आपको बता दें कि करीला मेला में रंग पंचमी के अवसर पर दर्शन करने वालों में प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव भी शामिल हुए और वह देश की खुशहाली के लिए मां जानकी के दरबार में अपना माथा टेका,हम आपको बता दें कि मुख्यमंत्री डॉक्टर मोहन यादव के साथ-साथ सांसद केपी यादव क्षेत्रीय विधायक बृजेन्द्र सिंह यादव के साथ-साथ आईजी सक्सेना जिला सी ओ नेहा जैन, कलेक्टर सुभाष कुमार त्रिवेदी पुलिस अधीक्षक विनीत कुमार जैन आदि प्रमुख रूप से उपस्थित है. 

यह भी पढ़िए :- Dhar Bhojshala ASI Survey: रंगपंचमी के बीच भोजशाला में जारी है सर्वे, इन दो स्थानों पर हो सकती है खोदाई

राई-रंग में रंगा मेला 

करीला मेला का मुख्य आकर्षण राई नृत्य होता है और यह राई नृत्य देखने श्रद्धालु दूदू से आते हैं,हम आपको बता दें कि करीला मेला जाने वाले हर मार्ग पर भक्तों द्वारा जगह जगह भंडारे का भी आयोजन दिन रात चलता रहा,करीला मेला के अवसर पर गांव जातोली के ग्रामीणों ने इमला चौराहे पर करीला जाने वाले श्रद्धालुओं को ठंडा पानी और खिचड़ी प्रसाद और चाए का आयोजन किया हम आपको बता दें कि रंग पंचमी पर यह आयोजन गांव जतोली के सभी सामाजिक बंधुओं मिलकर यह आयोजन प्रति वर्ष दो दिन किया जाता है,

Advertisment
Latest Stories