Advertisment

Harda: भुआणा में रहेगी गणगौर की धूम, सजकर तैयार हो गए पांडाल, साल में दो बार चैत्र और बैशाख के महिने में आता है यह उत्सव

भुवाणा गणगौर उत्सव में माता रानी के दरबार में दूर दराज से आमंत्रित मंडलियां कार्यक्रम देने आती हैं एवं गणगोर के शानदार गीतो झालरें एवं स्वांगों से दर्शकों का मन मोह लेते हैं बहुत ही मनमोहक प्रस्तुति देते हैं

author-image
By Ankush Baraskar
New Update
harda
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00
Advertisment

Harda/ संवाददाता मदन गौर हरदा :- सजने लगे गणगौर माता के पंडाल नौ दिन तक चलेगा गणगौर के जस रात मै पुरूष मंडिलीयो दारा गीतो के साथ झालरे स्वांग दिन मै महिलाओं मंडिलीयो दारा पाती जिसमै स्वांग झालरे गीत। भुआणा क्षेत्र की अलग पहचान बन चुका क्षेत्र का गणगौर उत्सव 2 अप्रेल से प्रारंभ होगा इस दिन का पहला सावे का गणगौर उत्सव  शुभारंभ खड़ा स्थापना के साथ किया जाता है.

Advertisment

यह भी पढ़िए :- Harda: किसानों की फसल उपार्जन केन्द्रों पर गेहूं चना की तुलाई प्लेट कांटे से कराई जावे- डॉ. दोगने

जिस परिवार में माता गणगौर पावनी बुलाई जाती है उस परिवार के पूरे सदस्य एवं महिलाएं गोरनिया बनती हैं वे सभी मां नर्मदा में स्नान करने के पश्चात यह उत्सव उस के दूसरे दिन से प्रारंभ होता है जिस उत्सव को लेकर जिस जिस परिवार में माता गणगौर पावनी बुलाई जाती है उस परिवार द्वारा पांडव को आकर्षण रूप से सजाया जाता है एवं दूधिया रोशनी वाली टिमटिमाते लाइटिंग से सजाया जाता है.

जो पूरे 9 दिन आकर्षण का केंद्र बना रहता है आयोजक परिवार मां गणगौर अर्थात रणू बाई को अपने यहां पावनी बुलाते हैं एवं 9 दिन तक पवित्र भाव से पूरी श्रद्धा भक्ति के साथ मां भगवती का पूजा अर्चना कर सेवा की जाती है एवं रणुबाई धनियर राजा  के साथ भावपूर्ण सेवा की जाती है 9 दिन तक सेवा मां द्वारा मां गणगौर और धनियर राजा की सेवा की जाती है वही जवारे भी बोए जाते हैं हैं.

Advertisment

भुवाणा गणगौर उत्सव में माता रानी के दरबार में दूर दराज से आमंत्रित मंडलियां कार्यक्रम देने आती हैं एवं गणगोर के शानदार गीतो झालरें एवं स्वांगों से दर्शकों का मन मोह लेते हैं बहुत ही मनमोहक प्रस्तुति देते हैं जिन्हें देखने के लिए आसपास के क्षेत्र से हजारों की संख्या में मां के भक्तों दरबार में पहुंचते हैं और कार्यक्रम का आनंद लेते हैं.

यह भी पढ़िए :- UP News: टिकट कटने से नाराज एसटी हसन को मनाने जाएंगी सपा प्रत्याशी रुचि वीरा

दिन में भी उसी प्रकार दूर दराज से आई हुई महिलाओं की मंडलियां भी पाती खेलने आती है और उसी प्रकार स्वांग मां गणगौर के गीत एवं झालरें देकर मां की 9 दिन इसी प्रकार सेवा करती हैं अंत में प्रसाद रूपी मेवा वाटा जाता है यह गणगौर महोत्सव का आयोजन निवाड़ क्षेत्र में परंपरा थी इसी परंपरा को अब सभी जगह बड़ी ही धूमधाम से और भक्ति भाव से यह आयोजन किया जाता है

Advertisment
Latest Stories