Advertisment

Holi Special: अब विलुप्त हो गई फागों की गूंज और बांस की बनी हुई पिचकारी देशी रंग गुलाल हुआ गायब

त्वचा से रंग उतारने के लिए दूध में सोयाबीन का आटा या बेसन मिलाकर लगाएं और धीरे- धीरे छुड़ाएं।  रगड़ने से त्वचा में जलन हो सकती है। बेसन में नीबू का रस मिलाकर भी रंगों को छुड़ाया जा सकता है।

author-image
By Ankush Baraskar
New Update
holi
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00
Advertisment

Harda/संवाददाता मदन गौर हरदा:- पहले होली में घरों, खेतों और खलिहानों में फागों की गूंज ढोल-मंजीरों में सुनाई देती थी लोग प्राकृतिक की गोद में होली का मजा लेते जिस घर मै बधाई होती फाग के गीत गाते  हुई मंडिली बधाई लेते थे। लेकिन समय के साथ मार्डन जमाने ये परंमपंरा लुप्त होती जा रही है होली का रंग बदल गया। न तो खुशबू भरे टेसू के रंग हरा की वो माला बांस की बनी हुई पिचकारी देशी रंग गुलाल और न ही मन को आनंदित करने वाली फागें है। टेसू रंगों का स्थान केमिकल ने ले लिया है और फाग की जगह पर डीजे में अश्लील गानों ने ले ली है।

Advertisment

यह भी पढ़िए :- Harda: टेल क्षेत्रों मे नहीं पहुंच पाता हैं मूंग कि फसल का पानी, किसान होते है परेशान – ओम पटेल

सावधान रहे कहीं होली चेहरा बदरंग न कर दे। कहीं प्रेम के वशीभूत होकर आप अपने प्रियजन अथवा सगे संबंधी के ऊपर पोटेशियम नाइट्रेट मिला रंग तो नहीं डालने जा रहे हैं। यह रंग आपके और अपने के लिए जानलेवा भी साबित हो सकता है। त्वचा को विकृत कर उसे हमेशा के लिए रोगी बना सकता है। होली के पर्व पर रंग डालने की परंपरा सदियों पुरानी है। लोग अपनों को होली के रंग से सराबोर करने के लिए आतुर रहते हैं। होली की निशानी छोड़ने के लिए पक्का रंग डालने का प्रयास करते हैं।

बाजार में पक्के रंग की मांग अधिक रहती है। बाजार भी इस मांग को पूरा करने के लिए विभिन्न प्रकार के रासायनिक तत्व मिलाकर रंगों को पक्का करते हैं। रंगों को पक्का करने के लिए व्यापारी रंग में पोटेशियम नाइट्रेट मिलाते हैं। लेकिन यह केमिकल काफी खतरनाक है। इससे रंग जरूर पक्का हो जाता है पर रंग श्वांस नली या मुंह द्वारा फेफड़ों तक पहुंच जाता है तो जानलेवा साबित हो सकता है। कहीं रंगों के चक्कर में बदरंग न हो जाए होली इसलिए केमिकल वाले रंगों से  शरीर पर कुप्रभाव से बचने का प्रयास करें। हरे पीले नीले काले लाल वाले रंगों से होली खेलने से बचें। रंग खेलने के पहले बालों में जैल या तेल लगाएं।

यह भी पढ़िए :- Harda : हरदा जिले के ग्रामीण क्षेत्रो में लगातार 10 घण्टे की जावे बिजली सप्लाई -डॉ. दोगने

त्वचा से रंग उतारने के लिए दूध में सोयाबीन का आटा या बेसन मिलाकर लगाएं और धीरे- धीरे छुड़ाएं।  रगड़ने से त्वचा में जलन हो सकती है। बेसन में नीबू का रस मिलाकर भी रंगों को छुड़ाया जा सकता है। नारियल के तेल या दही से भी स्किन को साफ कर सकते है। होली में हर्बल रंगों का इस्तेमाल किया जाए तो बेहतर है। रासायनिक रंग यदि शरीर पड़ जाए तो उसे तत्काल धो डालें। आंख में रंग जाने पर उसे साफ पानी से तत्काल धोयें। राहत न मिले तो चिकित्सक की सलाह लें। पोटेशियम नाइट्रेट फेफड़े को चिपका देता है। जिससे श्वांस अवरुद्ध होने लगती है। जिससे मरीज का ब्लड प्रेशर लो होने लगता है, जो कि जीवन के लिए खतरा पैदा करता है।

Advertisment
Latest Stories