Advertisment

ईडी और सीबीआई के जरिए छापा मारने वाले और उसके बाद चंदा लूटने वाले अब कांग्रेस को कोसने में लगे हुए हैं - जीतू पटवारी

डर और तात्कालिक लाभ की वजह से भाजपा को चंदा दे रहे कॉर्पोरेट घराने यह भूल रहे हैं कि वह एक ऐसे दुष्चक्र में फंसते जा रहे हैं, जहां उन्हें जबरन चंदा नहीं देने पर हमेशा केवल ब्लैकमेल ही किया जाएगा!

author-image
By Ankush Baraskar
New Update
jitu patwari
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00
Advertisment

लोकसभा चुनाव के तारीखों की घोषणा हो चुकी है.मध्यप्रदेश में कांग्रेस के 19 प्रत्याशियो के नाम सामने आना बाकी है.इसी बिच कांग्रेस प्रदेश प्रभारी जीतू पटवारी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए अपने सोशल मिडिया X पर लिखा है. सरकार की रुचि लोकतंत्र और संविधान को लेकर समाप्त हो चुकी है! • डर और तात्कालिक लाभ की वजह से भाजपा को चंदा दे रहे कॉर्पोरेट घराने यह भूल रहे हैं कि वह एक ऐसे दुष्चक्र में फंसते जा रहे हैं, जहां उन्हें जबरन चंदा नहीं देने पर हमेशा केवल ब्लैकमेल ही किया जाएगा!

Advertisment

यह भी पढ़िए :- Congress: कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल होने वाले नेता का हुआ एक पुराना फोटो वायरल

ईडी और सीबीआई के जरिए छापा मारने वाले और उसके बाद चंदा लूटने वाले अब कांग्रेस को कोसने में लगे हुए हैं! झूठ और बेशर्मी की इस इंतहा को जनता देख रही है! • सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद चुनाव आयोग ने इलेक्टोरल बॉन्ड का पांच साल का डेटा जारी कर दिया. 

स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया की ओर से दी गई डिटेल के अनुसार सबसे ज्यादा चंदा भाजपा को मिला है! • 05 साल में बीजेपी ने 60 अरब से भी ज्यादा रकम के इलेक्टोरल बॉन्ड इनकैश किए हैं! इन्हें लोकसभा और विधानसभा चुनाव के पहले सबसे ज्यादा कैश करवाया गया है और भी वजह बिल्कुल साफ है! • पूछा तो यह भी जाना चाहिए कि चुनी हुई राज्य सरकारों को गिराने के लिए, विधायकों की खरीद-फरोख्त के लिए, Godi Media को दक्षिणा देने के लिए, झूठ और नफरत फैलाने के लिए - कितना खर्च किया गया? 
Advertisment
स्वतंत्र काम करने वाली संवैधानिक संस्थाओं के जरिए किया गया विश्व का यह सबसे बड़ा "वसूली-अभियान" सबसे बड़ा सबूत है कि मोदी सरकार की रुचि लोकतंत्र और संविधान को लेकर समाप्त हो चुकी है! • डर और तात्कालिक लाभ की वजह से भाजपा को चंदा दे रहे कॉर्पोरेट घराने यह भूल रहे हैं कि वह एक ऐसे दुष्चक्र में फंसते जा रहे हैं, जहां उन्हें जबरन चंदा नहीं देने पर हमेशा केवल ब्लैकमेल ही किया जाएगा!
Advertisment
Latest Stories