उप राष्ट्रपति बोले दुनिया कह रही है कि भारत आज चमकते तारे की तरह है ! रायपुर में धनखड़ ने कहां विकसित भारत 2047 हमारा सपना नहीं, हमारा लक्ष्य।

author-image
By Ankush Baraskar
New Update

रायपुर :- आज उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के 38वें स्थापना समारोह में शामिल हुए। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय भी कार्यक्रम में उपस्थित थे.उप राष्ट्रपति ने कृषि स्टार्ट अप, बायोटेक और कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा लगाए गए विभिन्न स्टालों का निरीक्षण किया। विश्वविद्यालय द्वारा विभिन्न फसलों की 160 से अधिक किस्में विकसित पर उप राष्ट्रपति धनखड़ ने प्रसन्नता व्यक्त की एवं उन्नत कृषि तकनीकों के विषय पर चर्चा भी की।

यह भी पढ़िए :- इंदौर-देवास अटल बस सर्विस में लगी भीषण आग, चालक ने सूझबूझ से यात्रिओ को उतारा, बाल-बाल बचे यात्री

विकसित भारत 2047 हमारा सपना नहीं, हमारा लक्ष्य - धनखड़

कार्यक्रम के दौरान जगदीप धनखड़ ने सम्बोधित किया, कहां की विकसित भारत 2047 हमारा सपना नहीं, हमारा लक्ष्य है। भारत जिस विकास के साथ आगे जा रहा है, दुनिया कह रही है कि भारत आज चमकते तारे की तरह है। भारत हर क्षेत्र में वर्ल्ड लीडर है।

किसानो के लिए बोले - धनखड़

जगदीप धनखड़ ने कहा की भारतीयता हमारी पहचान है.भारतीय होने में गर्व है.पर कहुगा की हर परिस्थिति के अंदर प्रयास को रुकने नहीं देना है. किसानो की कार्यशैली पर प्रकाश डालते हुए उप राष्ट्रपति ने कहा की आज का किसान दूध,दही,मक्खन,छाछ और सब्जी तक उत्पादों में ही सिमित है, पर इसको बदलना है तो आपको आगे आना होगा।

भारत बहुत तेजी से बदल रहा है.

भारत बहुत तेजी से बदल रहा है.आपके सहयोग से यह रफ़्तार और तेज होगी,और कहा की जो अन्न देता है वो अन्नदाता होता है.मै सभी किसानो को सैलूट करता हूँ. और मुझे बताते हुए ख़ुशी हो रही है की किसानो को प्रोत्साहन देने के लिए जो सरकार ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की मुहीम चलाई है,जिससे किसान के खाते में सीधे पैसे आ रहे है.

यह भी पढ़िए :- बैरागढ़ में आयोजित हनुमान चालीसा पाठ में पहुंचे CM यादव, कहां भारत के सुशासन और रामराज्य के प्राकट्य का पहला चरण है !

जगदीप धनखड़ ने आगे कहा की ने कहा कि देश में बदलाव आया है, हमारी सोच बदल गई है। किसान असफल होने के डर से किसी चीज को आगे नहीं बढ़ाएंगे तो इससे आपका नुकसान कम और देश का नुकसान ज्यादा है। अगर आपने ठान ली तो बदलाव को कोई नहीं रोक पाएगा। कृषि में जितने शुरुआत की संभावना है, उसका उपयोग करें। सभी बड़े-बड़े उद्योग इसी में जा रहे हैं।

Latest Stories