Advertisment

Bengaluru Toourist Temple : इन मंदिरों में जाकर लोगों को बेहद शांति और सुकून मिलता है। ट्रैवलिंग लिस्ट में शामिल कर जरूर जाये घूमने

author-image
By Sagar Charpe
New Update
sak
Listen to this article
00:00 / 00:00
Advertisment

कोटे वेंकटरमण स्वामी मंदिर

Advertisment

मैसूर के शासक चिक्का देव राजा द्वारा निर्मित मंदिर टीपू सुल्तान के समर पैलेस के बगल में बसवनगुडी में स्थित है।  इस मंदिर में इसके प्रमुख देवता भगवान वेंकटेश्वर की पूजा करने के लिए आते हैं और इसकी खूबसूरत पत्थर की नक्काशी की प्रशंसा जरूर करते हैं।

सोमेश्वर मंदिर

श्री सोमेश्वर मंदिर बेंगलुरु के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। यह 1200 वर्ष से अधिक पुराना है विशेष रूप से स्तंभों पर अपनी अनूठी नक्काशी के कारण एक महत्वपूर्ण वास्तुशिल्प हिस्सा माना जाता है। 

Advertisment

यह भी पढ़िए :- Kuno : कूनो नेशनल पार्क में चीता गामिनी ने 5 नहीं बल्कि 6 शावकों को दिया था जन्म, निगरानी सत्र के दौरान मिला छटवां शावक

श्री शंखमुख मंदिर

भगवान शंखमुख के छः मुखों को शानदार रूप से स्थापित किया गया है। इसके ऊपर क्रिस्टल का एक विशाल गुंबद भी है,मंदिर के मुख्य द्वार पर मोर की मूर्तियां स्थापित है, जिन्हें भगवान शनमुगा का मुख्य वाहन माना जाता है। इस मंदिर में आप सूरज की किरण अभिषेक के दौरान जाएं, इस समय इस मंदिर का नजारा देखने लायक होता है।

Advertisment

डोड्डा गणेश मंदिर 

डोड्डा गणेश मंदिर बेंगलुरु में एक और महत्वपूर्ण मंदिर है। इसमें भगवान गणेश की 18 फीट ऊंची विशाल मूर्ति है जिसे कभी-कभी मक्खन से नहलाया जाता है डोड्डा गणेश मंदिर शहर के मध्य में स्थित है, 

चोककानाथ स्वामी मंदिर

चोककानाथस्वामी मंदिर बैंगलोर के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। यह डोम्लूर में स्थित है और चोल के शासनकाल के दौरान भगवान विष्णु की भक्ति के रूप में बनवाया गया था। 

ये भी पढ़े :- MP Weather News: MP में फिर बदलेगा मौसम, तेज हवा के साथ होगी बारिश

शिवोहम शिव मंदिर

इस मंदिर की सबसे विशिष्ट विशेषता सफेद संगमरमर से तराशी गई भगवान शिव की 65 फीट लंबी मूर्ति है। बेंगलुरु में ये मंदिर 1995 में बनकर तैयार हुआ था और इसमें 32 फीट ऊंची गणेश मूर्ति और 25 फीट ऊंचा शिव लिंग भी शामिल है। 

 

Advertisment