Advertisment

170 कमरे और 700 एकड़ में बना है दुनिया का सबसे बड़ा घर कीमत जानकर उड़ जायेगे आपके तोते

ये भारतीय महल इतना विशाल है कि इसमें पूरे चार बुकिंघम पैलेस समा सकते हैं. इस महल को न सिर्फ दुनिया का सबसे बड़ा निजी आवास माना जाता है बल्कि इसकी कीमत भारत में बनी किसी भी संपत्ति से ज्यादा है.

author-image
By Ankush Baraskar
New Update
170 कमरे और 700 एकड़ में बना है दुनिया का सबसे बड़ा घर कीमत जानकर उड़ जायेगे आपके तोते
Listen to this article
00:00 / 00:00

ब्रिटेन की महारानी का वो महल जिसे दुनिया बुकिंघम पैलेस के नाम से जानती है, उसी शाही ठाठ-बाट को भारत में निर्मित एक महल के सामने पानी में तैरता हुआ भी देखा जा सकता है. ये भारतीय महल इतना विशाल है कि इसमें पूरे चार बुकिंघम पैलेस समा सकते हैं. इस महल को न सिर्फ दुनिया का सबसे बड़ा निजी आवास माना जाता है बल्कि इसकी कीमत भारत में बनी किसी भी संपत्ति से ज्यादा है.

Advertisment

170 कमरों वाला ये भव्य महल इतना खूबसूरत है कि यहां कई फिल्मों की शूटिंग भी हो चुकी है. दरअसल, हम बात कर रहे हैं वडोदरा के राजघराने के रहने के स्थान लक्ष्मी विलास पैलेस की. ये महल 700 एकड़ में फैला हुआ दुनिया का सबसे बड़ा निजी आवास है. इसकी तुलना में ब्रिटेन के Buckingham Palace का आकार सिर्फ चौथाई यानी 25 प्रतिशत ही है.

महाराजा सयाजीराव गायकवाड ने इस महल का निर्माण 1880 के दशक में करवाया था. उस वक्त इसकी कीमत सिर्फ 18 हजार ग्रेट ब्रिटेन पाउंड (GBP) थी. अगर इसे रुपयों में देखें तो कुल कीमत 19,06,950 रुपये थी. हालांकि आज ये देश की सबसे महंगी संपत्ति बन चुकी है.

लक्ष्मी विलास पैलेस के मालिक कौन हैं?

Advertisment

वर्तमान में लक्ष्मी विलास पैलेस के मालिक युवराज समरजीतसिंह गायकवाड हैं. उन्होंने 2012 में अपने पिता रणजीतसिंह प्रतापसिंह गायकवाड के निधन के बाद ये जिम्मेदारी संभाली थी. उनकी शादी 2002 में वाँकेर राज्य के राजघराने से ताल्लुक रखने वाली राधिका राजे से हुई थी. राधिका एक पत्रकार रह चुकी हैं. समरजीतसिंह की फिलहाल 2 बेटियां हैं.

170 कमरे और अमूल्य संपत्ति

वडोदरा राजघराने का ये महल 170 कमरों वाला है और महल का क्षेत्रफल अकेले 170 एकड़ में फैला हुआ है. बाकी जगह में खूबसूरत बगीचे और स्विमिंग पूल बने हुए हैं. इस महल की मौजूदा कीमत करीब 24 हजार करोड़ रुपये बताई जाती है, जो भारत में बने किसी भी निजी आवास में सबसे ज्यादा है.

लक्ष्मी विलास पैलेस की खासियतें

लक्ष्मी विलास पैलेस सिर्फ अपने आकार के लिए ही नहीं बल्कि अपनी खूबसूरत वास्तुकला के लिए भी दुनियाभर में प्रसिद्ध है. इस महल में 1886 में बनी दुनिया की पहली मर्सिडीज बेंज कार भी मौजूद है, जो आज भी महल की शोभा बढ़ा रही है. इसके अलावा राजघराने के पास 1934 की एक रॉल्स रॉयस, 1948 की एक बेंटले मार्क VI और 1937 की एक रॉल्स रॉयस फैंटम III भी है.

Advertisment