Advertisment

Holi 2024: चिंताहरण हनुमान जी मंदिर के पुजारी पंडित विजय शर्मा ने बताया इस वर्ष होली का महत्व व संकट से निपटने के उपाय।

होलिका दहन के दिन 25 मार्च को  चंद्र ग्रहण होगा लेकिन भारत में दिखाई नहीं देगा। विश्व के अन्य देशों में यह कई जगह दृश्य होगा। भारत में चंद्र ग्रहण नजर नहीं आने से इसके सूतक आदि का पालन नहीं होगा। होलिका दहन के दिन भद्रा सुबह 9:56 से रात 11:14 बजे तक रहेगी।

author-image
By Ankush Baraskar
New Update
holi
Listen to this article
00:00 / 00:00
Advertisment

Holi 2024/संवाददाता संजय चौहान सुसनेर आगर मालवा :- ज्योतिषियों व पंडितों के अनुसार इन दिनों में हिरण्या कश्यप ने भगवान विष्णु भक्त अपने पुत्र प्रहलाद को भक्ति से दूर करने के लिए कई यातनाएं दी थी इन दिनों के अंतिम दिन अपनी बहन होलिका के सहयोग से भक्त प्रहलाद को मारने का प्रयास किया था इसी कारण इन दोनों को शुभ कार्य के लिए वर्जित माना जाता है.

Advertisment

होली पर रहेगा चंद्र ग्रहण

होलिका दहन के दिन 25 मार्च को  चंद्र ग्रहण होगा लेकिन भारत में दिखाई नहीं देगा। विश्व के अन्य देशों में यह कई जगह दृश्य होगा। भारत में चंद्र ग्रहण नजर नहीं आने से इसके सूतक आदि का पालन नहीं होगा। होलिका दहन के दिन भद्रा सुबह 9:56 से रात 11:14 बजे तक रहेगी।

श्री चिंता हरण बालाजी मंदिर के पुजारी पंडित विजय शर्मा के अनुसार होलिका दहन 24 मार्च को भद्रा उपरांत मनाई जाएगी। 25 मार्च को पूरे देश में  धुलंडी अर्थात रंगों का त्यौहार मनाया जाएगा।हिंदू धर्म के अनुसार होली दहन  को बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना गया है होली एक धार्मिक संस्कृतिक व प्रारंभिक त्यौहार हैं।

Advertisment

विधि विधान से पूजा करें

होलिका दहन की पूजा करने के लिए सबसे पहले स्नान करना चाहिए। स्नान के बाद पूजा करने वाले स्थान पर उत्तर या पूर्व दिशा की ओर मुंह करके बैठ जावे। पूजा करने के लिए गाय के गोबर से होली का व प्रहलाद की प्रतिमा बनाएं। पूजा सामग्री के लिए रोली , फूलों की माला, पुष्प , कच्चा सूत , गुड़, साबुत हल्दी, मूंग ,पतासे, गुलाल, नारियल, 5 या 7 तरह का अनाज एक लोटे में पानी रख ले। इसके बाद इन पूजन सामग्रियों के साथ विधि विधान से पूजन करें। मिठाई फल चढ़ाएं। होलिका की पूजन के साथ ही भगवान नरसिंह  की पूजा भी विधि विधान से करें। और फिर होलिका दहन करना चाहिए 

होली के टोटके : 24 मार्च 2024, होली की रात कोई एक जरूर आजमाए पंडित विजय शर्मा 

Advertisment

इस साल होली सोमवार 25 मार्च 2024 को खेली जाएगी, जबकि होलिका दहन रविवार 24 मार्च 2024 को मनाया जाएगा। होलिका दहन बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है और कहा जाता है कि इससे समृद्धि और खुशियाँ आती हैं और सभी नकारात्मकता और बीमारियाँ नष्ट हो जाती हैं। होलिका दहन 24 मार्च 2024 का शुभ समय रात 11:13 बजे से रात 12:27 बजे तक है।
होली बहुत सारे टोटके आजमाए जाते हैं।उम्मीद है यह आपके काम आएंगे। 

1. होलिका दहन के दिन घर से उतारा गया टोटका और शरीर के उबटन को होलिका में जलाने से नकारात्मक शक्तियां दूर होती हैं।
2. घर, दुकान और कार्यस्थल की नजर उतारकर उसे होलिका में दहन करने से लाभ होता है।
3. भय और कर्ज से निजात पाने के लिए नरसिंह स्तोत्र का पाठ करना लाभदायक होता है। 
4. होलिका दहन के बाद जलती अग्नि में नारियल दहन करने से नौकरी की बाधाएं दूर होती हैं।5.  लगातार बीमारी से परेशान हैं, तो होलिका दहन के बाद बची राख मरीज के सोने वाले स्थान पर छिड़कने से लाभ मिलता है।
6. सफलता प्राप्ति के लिए होलिका दहन स्थल पर नारियल, पान तथा सुपारी भेंट करें।
7. गृह क्लेश से निजात पाने और सुख-शांति के लिए होलिका की अग्नि में जौ-आटा चढ़ाएं।
8. होलिका दहन के दूसरे दिन राख लेकर उसे लाल रुमाल में बांधकर पैसों के स्थान पर रखने से बेकार खर्च रुक जाते हैं।
9. दांपत्य जीवन में शांति के लिए होली की रात उत्तर दिशा में एक पाट पर सफेद कपड़ा बिछाकर उस पर मूंग, चने की दाल, चावल, गेहूं, मसूर, काले उड़द एवं तिल के ढेर पर नवग्रह यंत्र स्थापित करें। इसके बाद केसर का तिलक कर घी का दीपक जलाकर पूजन करें।
10. जल्द विवाह के लिए होली के दिन सुबह एक पान के पत्ते पर साबूत सुपारी और हल्दी की गांठ लेकर शिवलिंग पर चढ़ाएं और बिना पलटे घर आ जाएं। अगले दिन भी यही प्रयोग करें।
11.बुरी नजर से बचाव के लिए गाय के गोबर में जौ, अरसी और कुश मिलाकर छोटा उपला बना कर इसे घर के मुख्य दरवाजे पर लटका दें।
12. होलिका दहन की रात तगर, काकजंघा, केसर को “क्लीं कामदेवाय फट् स्वाहा” मंत्र से अभिमंत्रित कर होली के दिन इसे अबीर या गुलाल में मिलाकर किसी के सिर पर डालने से वह वश में हो जाता है।
13. होली की रात “ॐ नमो धनदाय स्वाहा” मंत्र के जाप से धन में वृद्धि होती है।
14. 21 गोमती चक्र लेकर होलिका दहन की रात शिवलिंग पर चढ़ाने से व्यापार में लाभ होता है। 
15. उधार की रकम वापस पाने के लिए होलिका दहन स्थल पर अनार की लकड़ी से उसका नाम लिखकर होलिका माता से अपने धन वापसी का निवेदन करते हुए उसके नाम पर हरा गुलाल छिड़कने से लाभ होगा।
16. होली की रात 12 बजे किसी पीपल वृक्ष के नीचे घी का दीपक जलाने और सात परिक्रमा करने से सारी बाधाएं दूर होती हैं।

इस बार होलिका दहन में राशिनुसार क्या डालें : 12 राशि के 12 उपाय

  1. मेष राशि के जातक होलिका दहन के समय 7 नग काली मिर्च ऊसारकर होलिका में अर्पण करें। 
  2. मिथुन राशि के जातक चने की दाल 100 ग्राम दहन में डालें आर्थिक संकट समाप्त होगा।
  3. कर्क राशि के लोगों को 50 ग्राम सौंफ की होलिका में आहुति देनी चाहिए। इससे वाणी दोष दूर होगा और बिगड़े काम बनेंगे।
  4. सिंह राशि के जातकों को 250 ग्राम जौ को होलिका में अर्पण करने से किसी भी रोग से छुटकारा मिल जाता है। 
  5. वृषभ राशि के लोगों को सफेद चंदन पासा होलिका के तीन फेरे लेकर डालें इससे मानसिक चिंता दूर हो जाएगी।
  6. कन्या राशि के जातकों को 3 नग जायफल 3 नग काली मिर्च होलिका दहन में डालनी चाहिए इससे सभी संकटों से मुक्ति मिल जाएगी।
  7. तुला राशि वालों को होलिका दहन के दिन काले तिल और 2 हल्दी की गांठ दहन में अर्पित करनी चाहिए। ऐसा करने से कार्य में सफलता तथा पदोन्नति होगी।
  8. धनु राशि के जातकों को 50 ग्राम चावल व 50 ग्राम तिल दहन में डालने से सकंट दूर हो जाएगा और सफलता प्राप्त होगी।
  9. मकर राशि वालों को बिधारा की जड़ और 5 हल्दी की गांठ दहन में अर्पण करने से शनि के साढ़े साती का प्रभाव थोड़ा कम हो जाएगा। 
  10. कुंभ राशि के जातकों को मूंग की दाल, काले तिल के मिश्रण को होलिका में अर्पित करना चाहिए। इससे फिजूल खर्च से मुक्ति मिलेगी। 
  11. होलिका दहन के दिन वृश्चिक राशि वालों को 100 ग्राम पीलि सरसों 3 बार ऊसार कर होलिका में आहुति देने से भाग्योदय होगा।
Advertisment