Advertisment

Hyderabad Tourist Places : हैदराबाद को "निजाम का शहर" और "मोतियों का शहर" नाम से भी जाना जाता है। हैदराबाद में घूमने की जगहो की योजना जरूर बनाये

author-image
By Sagar Charpe
New Update
सक
Listen to this article
00:00 / 00:00
Advertisment

रामोजी फिल्म सिटी

Advertisment

रामोजी फिल्म सिटी तेलुगु फिल्म निर्माण के लिए जानी जाती है। फ़िल्म सिटी का निर्माण 1991 में रामोजी राव के द्वारा किया गया था। दुनियां के सबसे बड़े फिल्म स्टूडियो में शुमार रामोजी फिल्म सिटी में 50 से अधिक फिल्मों के सेट मौजूद है।रामोजी फिल्म सिटी को गिनीज़ बुक रिकॉर्ड का दर्जा प्राप्त है। यह फिल्म स्टूडियो 2500 एकड़ के विशाल क्षेत्रफल में फैला हुआ है। पर्यटन स्थल के साथ मनोरंजन के अनेकों साधन उपलब्ध हैं। 

ये भी पढ़े :- Congress: कांग्रेस से बीजेपी में आने वाले को लेकर इस नेता ने दिखाया आईना,सुन उड़ जाएंगे होश

सालार जंग संग्रहालय

Advertisment

मुसीर नदी के तट पर स्थित सालार जंग संग्रहालय हैदराबाद का सबसे उच्च तकनीक वाला संग्रहालय है। भारत के तीसरे सबसे बड़े संग्रहालय का निर्माण सालार जंग जी के द्वारा करवाया गया था। संग्रहालय में रखी घड़ी आकर्षण का केंद्र है जो दुनियां में केवल दो जगह है एक लंदन के म्यूजियम में और दूसरी सालार जंग संग्रहालय में है।जो भी जंग संग्रहालय में मौजूद है वो केवल जिन्हें एक ही व्यक्ति के द्वारा संग्रहित किया गया है जिन्हें मीर यूसुफ अली खान या सालार जंग तृतीय के नाम से जाना जाता है।

चारमीनार

इमारत का निर्माण 1591 में सुल्तान मुहम्मद कुली कुतुब शाह द्वारा भारतीय अरबी वास्तुशैली में अपनी बेगम के सम्मान में बनवाया था।चार मंजिला इमारत की सबसे ऊपरी हिस्से में मस्ज़िद का निर्माण भी किया गया है। पर्यटकों को देखने के लिए केवल प्रथम तल पर जाने की अनुमति रहती है। चार मीनार के उत्तर में चार कमान और मक्का मस्जिद बने हुए है भव्य इमारत को यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत स्थल (World Heritage Site ) का दर्जा दिया गया है।

Advertisment

गोलकुंडा क़िला

गोलकुंडा किला हैदराबाद शहर से 11 किलोमीटर की दूरी पर पड़ता है। गोलकुंडा का मतलब होता है चरवाहों की पहाड़ी।आंतरिक सुरक्षा की दृष्टि से किले के अंदर सुरंग बनाई गई थी जो चार मीनार में जाकर मिलती थी। हालाकि पर्यटकों के लिए अब यह सुरंग बंद कर दी गई है। किले में बने 8 द्वारा और 87 बुर्ज प्रभावशाली संरचना में शामिल है। गोलकुंडा फोर्ट कोहिनूर हीरे के लिए भी जाना जाता है यही की खानों से कोहिनूर और दरयाई नूर हीरा निकाला गया था। 

हुसैन सागर झील

सिकंदराबाद और हैदराबाद जैसे जुड़वा शहर को आपस मे जोड़ने वाली हुसैन सागर झील एशिया की सबसे बड़ी मानव निर्मित झीलों में से एक है। मुसी नदी की मुख्य धारा से हटकर सहायक नदी पर हुसैन सागर झील का निर्माण 1562 में इब्राहिम कुतुब शाह के शासन काल में करवाया गया था। झील का नामकरण हुसैन शाह वली के नाम पर किया गया था।

Advertisment