Advertisment

Kedarnath Tour Plan : चार धाम यात्रा में से एक है केदारनाथ की ये जगह बेहद मशहूर है इन स्थानों में भी घूमने जरूर जाएं

author-image
By Sagar Charpe
New Update
sak
Listen to this article
00:00 / 00:00

सोनप्रयाग 

Advertisment

1829 मीटर की ऊंचाई पर स्थित सोनप्रयाग एक प्रसिद्ध स्थल है जहां भगवान शिव और देवी पार्वती का विवाह हुआ था।जहाँ मंदाकिनी नदी बासुकी नदी से मिलती है।ऐसी मान्यता है कि भक्त जल के स्पर्श से ही बैकुंठ धाम प्राप्त कर सकते हैं।

वासुकी ताल झील

भगवान विष्णु ने रक्षा बंधन के शुभ अवसर पर इस झील में स्नान किया था। इसलिए इसका नाम वासुकी ताल पड़ा। वासुकी ताल के आसपास के इलाके ट्रैकिंग के लिए बेस्ट हैं। 

Advertisment

यह भी पढ़िए :- Kailash Vijayvargiya: INDIA गठबंधन पर ये बोल गए कैलाश विजयवर्गीय

त्रियुगी नारायण मंदिर

त्रियुगीनारायण मंदिर बनवाया गया था। भगवान विष्णु के सम्मान में बनाया गया था भगवान ब्रह्मा ने एक पुजारी के रूप में भूमिका निभाई थी।भगवान विष्णु ने पार्वती के भाई के रूप में इस विवाह की सभी व्यवस्थाएं की थी। 

Advertisment

भैरवनाथ मंदिर

भैरवनाथ मंदिर हिंदू भगवान भैरव द्वारा प्रतिष्ठित है। मंदिर के प्रतिष्ठित देवता को क्षेत्रपाल या क्षेत्र के संरक्षक के रूप में भी जाना जाता है, उनके पास हथियार के रूप में त्रिशूल और वाहन के रूप में एक कुत्ता है।

गौरीकुंड

गौरीकुंड मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित है और इसे आध्यात्मिकता और मोक्ष का प्रवेश द्वार माना जाता है। गौरीकुंड मंदिर और गौरी झील महत्वपूर्ण स्थल हैं 2013 की बाढ़ के बाद अब नहीं रहा, लेकिन गर्म पानी की एक छोटी सी धारा अभी भी उस स्थान पर बहती है, जहां कुंड हुआ करता था। 

यह भी पढ़िए :- MP Weather: MP के 13 जिलों जारी है बेमौसम बारिश का दौर 

रुद्र गुफा केदारनाथ

रुद्र गुफा उत्तराखंड में केदारनाथ मंदिर से 1 किमी दूर स्थित एक अंडरग्राउंड पत्थर की मेडिटेशन गुफा है। इस गुफा में एक सिंगल बेड, एक बाथरूम जिसमें गीजर की सुविधा मौजूद है, पानी, हीटर, सीलिंग बेल, आदि कई सुविधाएँ मौजूद हैं। गुफा से आप काफी अच्छे से केदारनाथ मंदिर और भैरवनाथ मंदिर को देख सकते हैं।

 

Advertisment