Advertisment

Places To Visit In Kanyakumari : अगर आपका भी मन ऐसे शानदार तटीय शहर में घूमने का कर रहा है, तो एक बार कन्याकुमारी की उन खूबसूरत जगहों पर घूमने जरूर जाएं

author-image
By Sagar Charpe
New Update
sak
Listen to this article
00:00 / 00:00
Advertisment

तिरुवल्लुवर की मूर्ति

Advertisment

प्रमुख तमिल कवि और दार्शनिक तिरुवल्लुवर को समर्पित है। 133 फुट ऊंची यह प्रतिमा 38 फुट ऊंचे आसन पर गर्व से खड़ी है यह स्थान सांस्कृतिक महत्व रखता है। 

गांधी मंडपम

महात्मा गांधी को समर्पित, कन्याकुमारी में यह बड़ा स्मारक है, जहां गांधीजी की राख के 12 कलशों में से एक को जनता को श्रद्धांजलि देने के लिए रखा गया था। बाद में अस्थियों को त्रिवेणी संगम में विसर्जित कर दिया गया। गांधी मंडपम उड़ीसा शैली में बनाया गया है। महात्मा गांधी के जन्मदिन 2 अक्टूबर को सूर्य की किरणें सीधे उस स्थान पर पड़ती हैं जहां उनकी राख रखी जाती है।

Advertisment

ये भी पढ़े :- Congress: कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने लगाये सिंधिया पर ये गंभीर आरोप

विवेकानंद रॉक मेमोरियल

स्वामी विवेकानंद ने 1892 में तीन दिनों के ध्यान के बाद यहां ज्ञान प्राप्त किया था। यह भी माना जाता है कि देवी कन्याकुमारी ने इस चट्टान पर घोर तपस्या की थी। रॉक मेमोरियल के प्रमुख आकर्षण विवेकानंद मंडपम और श्रीपाद मंडपम हैं।

Advertisment

कन्याकुमारी बीच 

कन्याकुमारी बीच समुद्र तट तीन प्रमुख जल समूह  का संगम है - बंगाल की खाड़ी, हिंद महासागर और अरब सागर। ये बीच दिखने में बेहद खूबसूरत है, क्योंकि इन तीनों जल समूह का पानी आपस में नहीं मिलता है, इसलिए आप यहां पानी के तीन अलग-अलग रंग देख सकते हैं।

सुनामी स्मारक 

यह स्मारक 26 दिसंबर, 2004 को विनाशकारी भूकंप और सूनामी में अपनी जान गंवाने वालों की याद में बनाया गया था। 16 फुट का स्मारक, जिसमें दो हाथ हैं, दाहिने हाथ पर आप दीपक को जलते हुए देख सकते हैं, जिसे बुझने से रोकने के लिए बाएं हाथ से विशाल नीली लहर को रोका जा रहा है।

 

ये भी पढ़े :- MP Lok Sabha Election Date: चार चरण में होगें मध्यप्रदेश के चुनाव, जानें किस जिलों में कब डाले जाएगे मत

थिरपराप्पु वॉटरफॉल 

50 फीट की ऊंचाई से गिरता थिरपराप्पु वॉटरफॉल, कन्याकुमारी में घूमने के लिए सबसे शानदार जगहों में से एक है।नीचे एक कुंड में गिरता है। झरने की सुंदरता में भीगने के अलावा, आप पूल में नहा  भी कर सकते हैं झरने पर जाने वाले भक्त प्रवेश द्वार पर छोटे शिव मंदिर में भी जा सकते हैं।

Advertisment