Advertisment

Women Led Temple : कुछ ऐसे भी मंदिर जहाँ महिलाओ के प्रवेश पर प्रतिबन्ध तो कही पुरुषो को नहीं है अनुमति! मजेदार हो सकता है यहाँ ट्रिप प्लान

author-image
By Sagar Charpe
New Update
sak
Listen to this article
00:00 / 00:00

संतोषी माता मंदिर

Advertisment

जोधपुर का संतोषी माता के मंदिर में पुरुष शुक्रवार के दिन नहीं जा सकते। अगर पुरुष बाकी दिनों में मंदिर जा रहे हैं, तो सिर्फ माता के दर्शन कर सकते हैं, लेकिन पूजा नहीं कर सकते। 

चक्कुलाथुकावु मंदिर

केरल में मौजूद चक्कुलाथुकावु मंदिर में मां दुर्गा की पूजा होती है। हर साल पोंगल के दिन नारी पूजा की जाती है। पोंगल का त्यौहार मनाया जाता है पूजा के आखिरी दिन के मौके पर पुरुष, पुजारी महिलाओं के पैर धोते हैं।

Advertisment

कामरूप कामाख्या मंदिर

यह मंदिर असम के गुवाहाटी में स्थित है। कामाख्या मंदिर नीलांचल पर्वत पर बना हुआ है। माता के सभी शक्तिपीठों में कामाख्या शक्तिपीठ का स्थान सबसे ऊपर है। यहां की पुजारी भी इस दौरान एक महिला होती है।

Advertisment

ब्रह्मदेव का मंदिर

यह मंदिर राजस्थान के पुष्कर में मौजूद है। भगवान ब्रह्मा का मंदिर आपको पूरे भारत में सिर्फ और सिर्फ यही यहीं मिलेगा। देवी सरस्वती के श्राप की वजह से यहां कोई भी शादीशुदा पुरुष नहीं जा सकता। इस मंदिर को 14वीं शताब्दी में बनाया गया था,

भगवती देवी मंदिर

कन्याकुमारी के इस मंदिर में मां भगवती की पूजा की जाती है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान शिव को अपने पति के रूप में प्राप्त करने के लिए मां यहां एक बार तपस्या करने के लिए आई थीं।

यह भी पढ़िए-स्मार्ट लुक और HD फोटू क्वालिटी से iPhone की लंका लगा देंगा Vivo का टकाटक स्मार्टफोन देखिये कीमत

आट्टुकाल देवी मंदिर

मंदिर में विशेष रूप से भद्रकाली देवी की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि भद्रकाली माता पोंगल के दौरान दस दिन तक मंदिर में निवास करती हैं। मंदिर में पुरुषों का आना मना है।केरल के इस मंदिर का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है .क्योंकि यहां एक साथ 30 लाख से अधिक महिलाएं पोंगल उत्सव में भाग लेने आई थी

 

Advertisment