पुराना से पुराना दर्द होगा छूमंतर, दर्द का टॉनिक है पारिजात का पौधा

Credit- All pic by google

पारिजात का फूल गठिया दर्द, साइटिका, पुरानी पीठ दर्द और अन्य जोड़ों के दर्द के लिए सबसे अच्छी जड़ी-बूटियों में से एक है।

 आप पारिजात की चाय बनाकर पी सकते हैं। यह चाय स्वाद में भी बेहतर है और कई लाभ देती है।

आप अपने दर्द के अनुसार दिनभर में 1-2 गिलास चाय पी सकते हैं।

जोड़ों और हड्डियों में दर्द की आयुर्वेदिक दवा

3-4 पारिजात की पत्तियां लेकर धो लें। इसे 1 गिलास पानी में डालकर आधा होने तक उबालें। इसे छान लें और इसका सेवन करें। ये स्वाद में भी बेहतर है और सेहत को कई लाभ देती है।

आप अपने दर्द के अनुसार दिनभर में 1-2 गिलास चाय पी सकते हैं। यह धीरे-धीरे लेकिन प्रभावी ढंग से काम करती है।

यह वात विकार जैसे गठिया, साइटिका, पीठ दर्द और अन्य जोड़ों के दर्द के लिए सबसे बढ़िया उपाय है।

जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए जरूरी आप एक्सरसाइज, बेहतर पोस्चर, मूवमेंट और डाइट पर भी ध्यान दें।

डेस्क जॉब वाले लोगों, कंप्यूटर पर काम करने वालों को अक्सर बैठने की स्थिति के कारण रुक-रुक कर पीठ दर्द होता है,

 वे भी पीठ दर्द को कम करने के लिए पारिजात चाय का सेवन कर सकते हैं।